सड़क किनारे बनी झोपड़ी में घुसी एंबुलेंस, महिला की मौत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Sunday, August 9, 2020

सड़क किनारे बनी झोपड़ी में घुसी एंबुलेंस, महिला की मौत

घायल हुई बेटी को जिला अस्पताल में कराया गया भर्ती 

कमासिन कस्बे में शनिवार की सुबह हुई दुर्घटना 

कमासिन, के एस दुबे । शनिवार की सुबह अनियंत्रित एंबुलेंस सड़क किनारे बसे लोहगढियों की झोपड़पट्टी में जा घुसी। वहां सो रही दो महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गईं। घायलों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय रिफर किया गया। इलाज को ले जाते वक्त गंभीर रूप से घायल एक अधेड़ महिला ने रास्ते में दम तोड़ दिया। मौत की खबर पाकर पूरे परिवार में कोहराम मच गया। घटना की सूचना थाने में दी गई है। महिला के शव का पोस्टमार्टम कराया गया है।

झोपड़ी में घुसी 108 एंबुलेंस
कस्बे के बांदा रोड सड़क किनारे लोहगढियों की आधा दर्जन से ज्यादा झोपड़पट्टी लगभग दो दशक से बनी हुई हैं। जिनमें लोह गढिया (पछइयां लोहार) जाति के लोग रहकर लोहे के हस्तकला से निर्मित गृहस्थी में दैनिक प्रयोग की जाने वाली वस्तुएं बना कर अपना जीवन यापन करते आ रहे हैं। शनिवार की तड़के पांच बजे बांदा की ओर से आ रही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की 108 एंबुलेंस यूपी 32 बीजी 8678 के चालक की नींद की झपकी लग जाने से एंबुलेंस कार अनियंत्रित होकर झोपड़पट्टी को रौंदती हुई जा घुसी। इसमें झोपड़पट्टी के अंदर सो रही विमला (52) और उसकी पुत्री ममता (21) पुत्री मोहर सिंह गंभीर रूप से घायल हो गई। परिजनों ने घटना की जानकारी स्वास्थ
रोते-बिलखते मृतक के परिजन
विभाग को दी। घटना की सूचना के तुरंत बाद विभाग द्वारा एंबुलेंस उपलब्ध कराकर दोनों घायल महिलाओं को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। हादसे में गंभीर रूप से घायल विमला की इलाज के पहले ही रास्ते में मौत हो गई। घायल ममता का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। हादसे से सहमे परिवार पर गम का पहाड़ उस समय टूट पड़ा, जब विमला की मौत की खबर आई। पूरे परिवार में कोहराम मच गया। मृतक विमला के लड़के गोविंद ने बताया कि घटना सुबह पांच बजे की है। जब मां बेटी एक ही चारपाई पर झोपड़ी के अंदर सो रही थी। तभी अचानक अनियंत्रित एंबुलेंस मौत का साया बनकर उन पर टूट पड़ी। गाड़ी के नीचे दबी मां बहन को बड़ी मुश्किलों बाद निकाला गया। घटना की सूचना पुलिस को दे दी गई है तथा विमला के शव का पोस्टमार्टम कराया गया है। मृतक विमला के चार बच्चे हैं। इनमें घायल ममता तीसरे नंबर की संतान हैं। घटना बाद एंबुलेंस छोड़कर चालक मौके से भाग निकला। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages