फर्जीवाड़ा - 177 बसों के नहीं मिल रहे हैं स्कूली पते - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, August 8, 2020

फर्जीवाड़ा - 177 बसों के नहीं मिल रहे हैं स्कूली पते

 डीएम ने दिए जांच के आदेश , कमेटी गठित 

 फर्जी पते मिले तो होगी एफआईआर - एआरटीओ  

 प्रशासन को आरटीओ कार्यालय में दर्ज पते पर नहीं मिले थे स्कूल  

फ़िरोज़ाबाद, विकास पालीवाल  ।  अभी तक स्कूली वाहनों में सुरक्षा के इंतजाम ना होने के मामले ही सामने आते रहे थे, लेकिन अब स्कूल बसों के नाम पर भी फर्जीवाड़े की बात सामने आई है । डीएम ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं । स्कूली वाहनों में बढ़ती घटनाओं और दुर्घटनाओं को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिए हैं कि सभी स्कूल के वाहनों के चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस और चरित्र सत्यापन कराए जाएं । यह काम  चल रहा है । इस कार्रवाई के दौरान परिवहन विभाग में पंजीकृत 848 में से 177 स्कूली बसों के पते फर्जी पाए गए हैं।  इसके बाद डीएम चंद्र विजय सिंह ने मामले की जांच के लिए कमेटी बना दी है । इसमें डीआईओएस रितु गोयल को

जानकारी देते हुए  एआरटीओ प्रदीप सिंह ।
नोडल अधिकारी बनाया गया है तथा बीएसए  डॉ अरविंद पाठक को भी कमेटी में शामिल किया गया है ।  इस कमेटी की जांच में बसों से संबंधित स्कूल नहीं मिलेंगे, तो बसों के पंजीकरण निरस्त करने के साथ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी ।  बताया जाता है कि  सत्यापन का काम शुरू हुआ, तो परिवहन विभाग के कर्मचारियों को 177 बसों के स्कूल उन्हें विभाग में दर्ज पते पर नहीं मिले । 

        इस बारे में  एआरटीओ प्रदीप कुमार सिंह ने बताया कि  फिरोजाबाद जनपद में 848 वाहन स्कूलों में पंजीकृत पाए गए हैं। जांच में 446 गाड़ियां ही स्कूलों के नाम वैध पंजीकृत मिले हैं ।  जबकि 177 गाड़ियां जो विभिन्न विद्यालयों में लगी हुई दर्शाई गई हैं उनकी जानकारी नहीं मिल रही है । केवल संस्था के लेटर पैड पर ही ऐसी गाड़ियों को  स्कूलों में पंजीकरण किया गया था ।  प्रदीप सिंह ने बताया कि  सूची देने के साथ ही उन्होंने नोडल अधिकारी डीआईओएस से अनुरोध किया है कि इन स्कूलों के होने या ना होने की जानकारी भी उनको दी जाए,  जिससे उन पर कार्रवाई की जा सके । 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages