श्री कृष्ण जन्माष्टमी व्रत 11 अगस्त गृहस्थजन स्मार्त, 12 अगस्त वैष्णव - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Sunday, August 9, 2020

श्री कृष्ण जन्माष्टमी व्रत 11 अगस्त गृहस्थजन स्मार्त, 12 अगस्त वैष्णव

भगवान श्री कृष्ण का जन्म भाद्रपद में कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रोहणी नक्षत्र में अर्धरात्री में वृष के चन्द्रमा में हुआ था। इस वर्ष भगवान श्री कृष्ण का  5247 जमोत्सव है।  इस वर्ष अष्टमी तिथि 11 अगस्त मंगलवार  को सुबह 09ः06से प्रारम्भ होकर 12 अगस्त बुधवार  को सुबह 11ः15 तक है। इस बार अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र दोनों एक साथ नहीं बन रहे हैं। जन्माष्टमी के दिन 11 अगस्त को भरणी नक्षत्र और  12 अगस्त को कृतिका नक्षत्र रहेगा। इसके अलावा इस दिन चंद्रमा मेष राशि में और सूर्य कर्क राशि में रहेगा। स्मार्त अर्धरात्रि को पड़ रही अष्टमी वाले दिन जन्माष्टमी मनाते है जो 11 अगस्त को है । जब कि वैष्णव अष्टमी की उदया तिथि को जन्माष्टमी गोकुलाष्टमी मनाते है जो 12 अगस्त को है । स्मार्त 5 देवों भगवान विष्णु, शिव, दुर्गा, गणेश और सूर्य की उपासना करते है। जबकि वैष्णव अपने सम्प्रदाय के गुरू से गुरू दीक्षा लेकर कंठाी, माला, तिलक आदि नियम पालन करते है और केवल श्री कृष्ण वैष्णव उपासना करते है । जगन्नाथ पुरी, काशी और उज्जैन में 11 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जाएगी। जबकि मथुरा और द्वारिका में 12 अगस्त को जन्मोत्सव मनाया जाएगा।

कृष्ण जन्माष्टमी को कृष्णाष्टमी, गोकुलाष्टमी, कन्हैया अष्टमी,  श्रीकृष्ण जयंती नामों से भी जाना जाता है। पूरे देश में जन्माष्टमी धूमधाम से मनाई जाती है। मध्य रात्रि पूजा का शुभ मुर्हूत 11 अगस्त  रात 11ः50 से 12ः33 तक है। जन्माष्टमी  में  उपवास रखकर रात्रि में जागरण एवं भगवान का पूजन , भजन-कीर्तन से किया जाता है।     भगवान श्री कृष्ण ने पूतना, शकटासुर, नरकासुर, कंस, जरासंध,  शिशुपाल, पौड्रक आदि असुरों का वध किया था।  12 अगस्त को महाराष्ट्र, गुजरात में दही हांडी उत्सव मनाया जायेगा

- ज्योतिषाचार्य एस.एस. नागपाल, स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज, लखनऊ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages