भिक्षावृत्ति, बालश्रम पर करें कार्यवाही: डीएम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, July 29, 2020

भिक्षावृत्ति, बालश्रम पर करें कार्यवाही: डीएम

लावारिश, परित्यक्त बच्चों के लिए शिक्षा, उपचार की हो व्यवस्था
गैस से विद्यालय बस संचालन प्रतिबंधित के दिए निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय तथा पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल की उपस्थिति में जिला बाल संरक्षण समिति की समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई।
जिलाधिकारी ने कहा कि थाना में तैनात बाल कल्याण अधिकारियों का बाल संरक्षण एवं बाल अधिकारों के प्रति जागरूकता कार्यक्रम कराएं। सभी थानों व सार्वजनिक स्थलों पर 1090, 181, 112 नंबरों को डिस्प्ले भी कराया जाए। विधि का उल्लंघन करने वाले किशोरों से संबंधित सूचना भी जिला प्रोबेशन अधिकारी को दें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा  कि लावारिस व परित्यक्त बच्चों की आकस्मिक चिकित्सा व्यवस्था के लिए स्पेशल चाइल्ड केयर यूनिट नियोनेटल केयर यूनिट तथा लावारिस परित्यक्त एवं अनाथ नवजात शिशुओं में उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित करें। बेसिक शिक्षा अधिकारी से कहा कि जनपद के मलिन बस्तियों में आवासित परिवारों के बच्चों को विद्यालय से जोड़ने तथा ग्राम पंचायतों में संचालित विद्यालयों के अध्यापकों को ग्राम बाल संरक्षण समिति की बैठक में उपस्थित होकर बेसहारा और देखरेख संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों को चिन्हित कर विद्यालय
बैठक में निर्देश देते डीएम।
से जोड़ा जाए। श्रम प्रवर्तन अधिकारी को निर्देश दिए कि बाल श्रम उन्मूलन के लिए अभियान चलाकर होटल, ढाबों क्रेशर मशीनों, खदानों आदि पर कार्य कर रहे बच्चों को विद्यालय से जोड़ने की कार्यवाही करें। किसी भी स्तर पर बाल श्रम करते हुए बच्चे नहीं मिलना चाहिए। नियमित रूप से निरीक्षण करते रहें। अगर कोई समस्या हो तो पुलिस अधीक्षक से संपर्क कर अवगत कराएं। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी को निर्देश दिए कि जनपद के सभी विद्यालयों में गैस संचालित वाहनों पर प्रतिबंध लगाएं। रेलवे विभाग रेलवे स्टेशन एवं रेलगाड़ियों, बस अड्डों, सार्वजनिक स्थलों पर भिक्षावृत्ति का कार्य कर रहे बच्चों पर रोकथाम की कार्यवाही करें। जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिए कि समेकित बाल संरक्षण योजना के अंतर्गत ब्लॉक तथा ग्राम सभा स्तरीय बाल संरक्षण समितियों का क्रियान्वयन कराया जाए। ग्राम पंचायतों में शासनादेश के अनुसार जो धनराशि उपलब्ध है कि कोई भी व्यक्ति व अनाथ बच्चा भूखा न रहे। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास से कहा कि जो भी बाल श्रम उन्मूलन के संबंध में ब्लॉक स्तरीय बैठकर कराई जाए उसका कार्यव्रत भी उपलब्ध कराएं। बैठक में संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages