हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में भी लगेंगे ‘अंतरा’ इंजेक्शन - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, July 29, 2020

हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में भी लगेंगे ‘अंतरा’ इंजेक्शन

महिलाएं केयरलाइन नंबर 1800-103-3044 से करे संपर्क 

हमीरपुर, महेश अवस्थी । नवीन गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा ने कुछ ही समय में महिलाओं के बीच खास जगह बनाई है। अनचाहे गर्भ को रोकने में कारगर इस इंजेक्शन के लाभार्थी महिलाओं की संख्या भी बढ़ी है। अभी तक यह इंजेक्शन प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में उपलब्ध रहता था, लेकिन अब अगस्त में जनपद के सभी 42 हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में इसकी उपलब्धता रहेगी। लाभार्थी महिलाओं का अंतरा केयरलाइन में पंजीकरण होगा, जहां से समय-समय पर उनकी काउंसिलिंग भी होती रहेगी।महिलाओं के प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए अंतरा गर्भ निरोधक इंजेक्शन और छाया टेबलेट को अभी हाल ही में लांच किया गया है। देखते ही देखते इन दोनों नवीन गर्भनिरोधक साधनों ने महिलाओं में खास जगह बना ली है। अभी तक इन दोनों साधनों की उपलब्धता प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों तक सीमित थी, लेकिन अब इसका दायरा बढ़ाया जा रहा है ताकि ज्यादा से ज्यादा महिलाएं इन दोनों साधनों को अपनाये ।
परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ.राम अवतार ने बताया कि अगस्त माह में अंतरा इंजेक्शन जनपद के सभी 42 हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटरों में भी शुरू कर दिया जाएगा। ग्रामीण इलाकों की महिलाएं अपने निकटवर्ती सेंटर में जाकर इंजेक्शन लगवा सकती हैं। इंजेक्शन लगवाने वाली महिलाओं का अंतरा केयरलाइन 1800-103-3044 में पंजीकरण हो जाएगा। जहां से समय-समय पर काउंसिलिंग होती रहेगी। इस टोल फ्री नंबर से महिलाएं बड़ी ही आसानी से अपने हर सवालों के जवाब घर बैठे ही ले सकती हैं। 

हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर में भी लगेंगे ‘अंतरा’ इंजेक्शन
नोडल अधिकारी डॉ.राम अवतार ने बताया कि प्रत्येक गुरुवार को जनपद की ब्लाक स्तरीय सीएचसी और जिला महिला अस्पताल में अंतरा इंजेक्शन लगाया जाता है। अंतरा इंजेक्शन अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए एक सुरक्षित अस्थाई गर्भनिरोधक विकल्पों में से एक है। अंतरा इंजेक्शन जिला महिला अस्पताल, सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों व उपकेंद्रों पर नि:शुल्क लगाया जाता है। जब से अंतरा इंजेक्शन लांच हुआ है तब से करीब तीन हजार के आसपास महिलाओं ने इसे अपनाया है। छाया टेबलेट लेने वाली महिलाओं की संख्या 12 हजार के पार है। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages