इस बार जेल में बहिनें कलाई पर नहीं बांध पाएंगी राखी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, July 29, 2020

इस बार जेल में बहिनें कलाई पर नहीं बांध पाएंगी राखी

केवल एक अगस्त तक भेज सकती है राखी  
        
फिरोजाबाद, विकास पालीवाल । जिला जेल में बंद कैदियों की कलाई पर इस बार कोरोना की मार पड़ेगी। इस बार कैदियों को बीमारी के संक्रमण से बचाने के लिए रक्षा बंधन के दिन जिला जेल में बहनों की एंट्री वैन रहेगी। जिसकी वजह से कोई भी बहन जेल में बंद अपने भाई की कलाई पर राखी नही बांध सकेगी। जिला जेल में बंद कैदियों की संख्या एक हजार से भी अधिक है, लिहाजा रक्षा बंधन के दिन इन कैदियों की कलाई पर राखी बांधे जाने की परम्परा को निभाने के क्रम में जिला कारागार प्रशासन भी महती भूमिका निभाता है । पिछले वर्ष तक  सुबह से भी बहनों का आना जाना शुरू हो जाता था और पर्ची भेजकर चरणबद्ध तरीके से कैदियों को जेल के मैदान पर बुलाकर उन्हें राखी
बंधवाने का काम किया जाता था। जेल में बना हुआ मीठा भी बहन खरीद कर भाइयों को खिलातीं थी ।  इस दौरान काफी संख्या में महिला पुलिसकर्मी तैनात किए जाते थे । सुबह से लेकर शाम तक यह क्रम चलता रहता था । लेकिन इस बार जेल में यह क्रम बदला हुआ नजर आएगा । 
         कैदियों को कोरोना से बचाने के लिए इस बार नयी व्यवस्था की गयी है। इस बार बहनों की जेल में एंट्री बैन कर दी गयी है। व्यवस्था के मुताबिक अब कोई भी बहन अपने भाई की कलाई पर राखी भेजना चाहती है, तो वह एक लिफाफे में राखी के साथ साथ रोली और चावल भी एक अगस्त को बंद लिफाफे के ऊपर अपना नाम लिखकर काउंटर पर जमा करा सकतीं है। लिफाफा रक्षा बंधन वाले दिन उस कैदी को सौंप दिया जायेगा, जिसका नाम लिफाफे पर होगा । 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages