आरोपो से घिरी एट पुलिस, थानाध्यक्ष ओर सिपाही लपेटे में - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, July 29, 2020

आरोपो से घिरी एट पुलिस, थानाध्यक्ष ओर सिपाही लपेटे में

महिला बोली मेरे पति से पुलिस कहती जुआ खिलवाओ

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । बुधवार को पुलिस के आलाधिकारियों के पास अजीबो गरीब मामला आया जिसे पढ़कर आलाधिकारियों को आश्चर्य भी हुआ जिसमके एक महिला ने ऐट पुलिस पर ग्सम्भीर आरोप लगाए और कहा कि ऐट पुलिस मेरे पति से कहती है कि जुआ खिलवाओ ओर मुझे हफ्ता दो। अन्यथा की स्थति में फर्जी मुकदमे में फंसा दिए जाओगे। फिलहाल अब यह जांच का विषय है कि महिला के आरोप किस हद तक सत्य है और अगर सत्य है तो क्या खाकी के दागदार पर कारबाई होगी।
मामला एट थाने के ग्राम सेई का है। बुधवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में एक महिला ने अपर पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देते हुए अवगत कराया कि मेरे पति आज से दो साल पहले गलत संगत में पड़कर जुआ खेलने लगे थे लेकिन परिजनांे के समझाने पर उन्होंने जुआ खेलना ओर खिलवना दोनांे बंद कर दिया था। बीते कुछ दिन से एट थाने के थानाध्यक्ष ओर सिपाही भानु प्रताप यादव और अजय प्रताप यादव मेरे पति को बेबजह परेसान कर रहे है महिला ने आरोपः लगाया कि थाने के सिपाही आये दिन घर आकर मेरे पति को फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी देते है और कहते है कि तुम जिस तरह पहले जुआ खेलते ओर खिलवाते थे उसी तरह से फिर से उसी
एसपी से शिकायत करने जाती महिला।
धंधे में उतर जाओ हम लोगों को हफ्ता दो। पीड़िता ने बताया कि सिपाहियों की धमकी के चलते मेरे पति घर मे नही रहते। महिला ने बताया कि उसका इलाज झांसी में चल रहा है आये दिन मुझे झांसी दिखाने जाना होता है लेकिन पुलिस के डर की बजह से मेरे पति मुझे दिखाने नही ले जा पा रहे है सिपाहियों की धमकी के चलते मेरा मानसिक संतुलन भी बिगड़ता जा रहा है पीड़िता ने अपर पुलिस अधीक्षक से मामले की जांच कर सिपाहियों पर कार्रवाई की मांग की। अब बात ये आत्ती है कि अगर कोई व्यक्ति पुराने गलत कार्यो को तौबा करके समाज की मुख्यधारा में जुड़ना चाहता है तो पुलिस उसे अच्छा इंसान नहीं बनने देना चाहती है। जिस तरीके से एट थानाध्यक्ष ओर उनके सिपाही अवैध कार्यो को खत्म करने की बजाय बढ़ावा दे रहे है। उझसे तो नवागंतुक पुलिस कप्तान की मंशा तार तार हो रही है जिस तरीके से नवागंतुक पुलिस कप्तान यशवीर सिंह ने लोगों को न्याय का भरोसा दिलाया उस पर एट पुलिस खरी नही उतर रही है अपराध से निकलने की बजाय खकी अपराध के दलदल में धकेल रही है । पीड़ित महिला की बात अगर सत्य है तो निश्चित तौर पर नैय्या प्रिय पुलिस कप्तान इस मामले को गंभीरता से लेकर कड़ी करवाई करेंगे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages