दो दिवसीय संपूर्ण लाक डाउन आज से, घरों से न निकलें - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, July 11, 2020

दो दिवसीय संपूर्ण लाक डाउन आज से, घरों से न निकलें

संपूर्ण लाकडाउन में सिर्फ आवश्यक सेवाओं ही जारी रहेंगी 
संपूर्ण लाकडाउन में बाजार, सरकारी कार्यालय रहेंगे बंद 
शुक्रवार को खरीददारी के लिए बाजार में उमड़ी भीड़ 

बांदा, के0 एस0 दुबे । शासन द्वारा घोषित किए गए दो दिवसीय लाक डाउन को लेकर एक बार फिर से लोगों में हलचल मच गई। शुक्रवार की रात को 10 बजे से लेकर 13 जुलाई की सुबह पांच बजे तक घोषित संपूर्ण लाक डाउन के मद्देनजर शुक्रवार को लोगों ने बाजार में अपनी जरूरत का सामान खरीदा ताकि दो दिनों तक उन्हें किसी भी प्रकार की खरीददारी न करनी पड़े। सुबह से लेकर देर रात तक लोग खरीददारी करते रहे। संपूर्ण लाक डाउन में सिर्फ आवश्यक सेवाओं को ही संचालित किया जाएगा। 
शुक्रवार को इस तरह बाजार में खरीददारों की उमड़ी भीड़
लाक डाउन तो वैसे भी लागू था। लेकिन अनलाक-2 के रूप में। शुक्रवार की रात को 10 बजे से लेकर 13 जुलाई की सुबह पांच बजे तक लाक डाउन की शासन द्वारा घोषणा किए जाने के बाद शुक्रवार को पूरा दिन बाजार में किराना दुकान, सब्जी मंडी और बस स्टैंड में सुबह से ही लोगों और ग्राहकों की भीड़ दिखी। पूरे प्रदेश समेत जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसके बाद भी लोग जागरूक नहीं हो पा रहे हैं। बाजारों में न तो लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और न ही मास्क लगाकर पहुंच रहे हैं। लोगों में कोरोना को लेकर जागरूकता का अभाव नजर आ रहा है। प्रदेश सरकार ने एक बार फिर दो दिवसीय लाकडाउन की घोषणा की है। लाकडाउन से पहले शुक्रवार को बाजार में सामान्य रूप से ज्यादा भीड़भाड़ और चहल-पहल दिखाई दी। कोरोना महामारी को लेकर जिस तरह की जागरूकता होनी चाहिए थी, वह बिल्कुल दिखाई नहीं दी। जबकि जिले में काफी संख्या में लोग कोरोना के चपेट में आ चुके हैं। दिन प्रतिदिन मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। बाजारों में सामान्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा भीड़ रही। लाकडाउन से पहले बाजारों में भीड़ के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भी लोग भूल गए। ऐसे में कोरोना फैलने का खतरा लगातार बढ़ रहा है। महामारी को लेकर आम जनता पूरी तरह जागरूक नहीं दिखाई दे रही है। बाजार में 50 प्रतिशत लोग ऐसे दिखाई दिए जो मास्क का भी प्रयोग नहीं कर रहे हैं। लोग बीमारी की भयावहता को समझ ही नहीं पा रहे हैं। लाक डाउन अवधि में सभी जरूरी सेवाएं जैसे चिकित्सा और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति पहले की भांति खुली रहेगी। इन सेवाओं में कार्यरत व्यक्तियों, कोरोना वारियर, स्वच्छता कर्मियों व डोर टू डोर सप्लाई से जुड़े व्यक्तियों के आने-जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा।

रोडवेज बसों का रहेगा चक्का जाम 

बांदा। कोरोना के बढ़ते खतरे के मद्देनजर सरकार ने पूरे प्रदेश में 55 घंटे का प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया है। यह प्रतिबंध शुक्रवार की रात 10 बजे से शुरू होकर 13 जुलाई सुबह 5 बजे तक चलेगा। ऐसे में सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान और सरकारी कार्यालय तथा राज्य परिवहन निगम की बसों का संचालन ठप रहेगा। बांदा डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक (एआरएम) परमानंद ने बताया कि डिपो में कुल 129 बसें हैं। लाकडाउन अवधि के दौरान परिवहन की बसों का संचालन पूरी तरह ठप रहेगा। लाकडाउन अवधि खत्म होने के बाद पूर्व की तरह सभी बसों का संचालन किया जाएगा। प्रदेश सरकार ने रोडवेज बस सेवा प्रदेश और जिले के अंदर प्रतिबंधित रहेगी।

पहचान पत्र ही ड्यूटी पास माना जाएगा

बांदा। जरूरी सेवाओं से जुड़े अधिकारियों-कर्मचारियों का पहचान पत्र ही ड्यूटी पास माना जाएगा। उनकी आवाजाही पर कोई रोक नहीं होगी। ड्यूटी पर जाने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को पहचान पत्र दिखाने के बाद ही निकलने दिया जाएगा। पहचान पत्र न होने की दशा में किसी को बाहर निकलने की अनुमति नहीं रहेगी। 

चप्पे-चप्पे पर रहेगी पुलिस और प्रशासन की नजर 

बांदा। हर जिले में मजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारी संयुक्त भ्रमण करेंगे। पेट्रोलिंग व्यवस्था को कड़ाई से लागू कराया जाएगा। कोरोना के संक्रमण की समीक्षा के लिए जिलों में तैनात नोडल अधिकारी पूर्व निर्धारित दायित्वों के साथ-साथ इन नए दिशा-निदेर्शों के तहत भी समीक्षा करते हुए काम करेंगे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages