कमजोर बारिश से अन्नदाता परेशान, सूख रही धान की बेड़ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Tuesday, July 21, 2020

कमजोर बारिश से अन्नदाता परेशान, सूख रही धान की बेड़

समय रहते बारिश न हुई तो प्रभावित होगी धान की पैदावार 

कमासिन, के एस दुबे । आषाढ़ मास से अभी तक इतनी अच्छी बारिश नहीं हुई जो किसानी के लिए उपयोगी साबित हुई हो। कमजोर बारिश को लेकर किसान खासे परेशान है। पानी की कमी की वजह से धान की रोपाई ठहरी हुई है। किसानों का कहना है कि यदि समय रहते जोरदार बारिश नहीं होती है तो धान की पैदावार प्रभावित होने पर किसानों की आय पर विपरीत असर पड़ेगा।
पानी के अभाव में सूखने की कगार पर धान की बेड़
खरीफ के मौसम में किसानों को उम्मीद थी कि इस बार धान की फसल अच्छी होगी। किसानों ने इस वर्ष धान का रकबे मे भी बढ़ोतरी की है। जून माह में आशा जनक बारिश होने से किसान भी उत्साहित होकर किसानी में जुट गए थे। लेकिन सावन मास का आधा महीना बीतने के बाद कमजोर बारिश की कारण पिछड़ रही धान की रोपाई को लेकर किसानों में चिंता सताने लगी है। करोना संक्रमण की वजह से प्रवासी भी अपने घर वापस आ गए हैं। अधिकांश प्रवासी अब बाहर जाने के बजाए यही खेती किसानी में जुटे हुए हैं। अच्छी बारिश की उम्मीद में किसान जी जान से खेती किसानी में जुट गए थे। पिछले वर्ष की तुलना में किसानों ने धान का रकबा भी बढा लिया है। इस समय धान की रोपाई शुरू हो गई है। खरीफ की अन्य फसलों की बुवाई में भी किसान जुटें हुए हैं। लेकिन इधर करीब दो सप्ताह से बारिश नहीं होने की वजह से किसानों को सूखे के आसार भी नजर आने लगे हैं।किसान कोशिगिन, गया धरमपुरहा, जगन प्रसाद यादव, जमुना प्रसाद यादव, संजय मिश्रा, संजीव कुमार आदि किसानों का कहना है कि बारिश के अभाव में धान की रोपाई प्रभावित हो रही है। इसके अलावा अन्य फसलों की बुवाई भी नहीं हो पा रही है। अगर कुछ दिन और बारिश नहीं हुई तो निश्चित तौर पर सूखा पड़ने के आसार बढ़ने की स्थिति नजर आती है। उनका कहना है कि इस वर्ष अच्छी खेती की उम्मीद थी लेकिन बारिश की कमी की वजह से शायद उम्मीदों पर पानी फिरता दिख रहा है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages