Latest News

कोरोना वायरस चीन और अमेरिका में तनातनी................

देवेश प्रताप सिंह राठौर
 ( वरिष्ठ पत्रकार)

विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यूएचओ ने ठीक समय पर कोरोना वायरस की सही स्थिति का अवलोकन नहीं किया जबकि कुछ देशों ने विश्वा स्वास्थ्य संगठन से कोरोना वायरस के बारे में चीन के वुहान शहर से फैलने की बात कही गई थी परंतु स्कोर विश्व स्वास्थ संगठन ने गंभीरता से नहीं लिया इसका परिणाम यह हुआ या आज पूरा विश्व के हर देश कोरोना वायरस महामारी से ग्रस्त चल रहे हैं विश्व की महा शक्तिशाली देश अमेरिका ने चीन के वुहान शहर से निकला कोराना वायरस को विश्व में माहवारी का रूप दिया है। तथा डब्ल्यूएचओ को कोरोना वायरस की चाइना के बुहान शहर की जांच करने के लिए भारत सहित करीब 130 देशों ने अपनी सहमति है। अमेरिका चीन का तो बहुत ही वाक्य युद्ध हो रहा है। वायु सेना में अमेरिका चीन से बहुत आगे है और अमेरिका के साथ काफी शक्तिशाली देश इस समय अमेरिका के साथ है और भारत भी डब्ल्यूएचओ से चाहता है चाइना में कोरोना वायरस की जांच हो और आज जिस तरह से अमेरिका और चीन के बीच वार्ता चल रही है कहीं युद्ध हुआ तो काफी गंभीर परिणाम होंगे एशिया के लिए क्योंकि आज पहले पूरा विश्व कोराना वायरस से छुटकारा की तरफ प्रयास करें चीन के विषय में
कोई भी जानकारी विश्व के पटल पर नहीं प्राप्त होती है क्योंकि वहां पर मीडिया को सरकार के अधीनस्थ सरकार के द्वारा दी गई सूचना ही देनी होती है निष्पक्ष  वहां पर मीडिया नहीं चल सकती है। अमेरिका कैसा देश है जो कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है वहां के राजपाल डोनाल्ड ट्रंप सिर्फ चीन चीन चीन के बारे में ही आज अधिक बोलते हैं आगे कोरोना वायरस किस देश में है युद्ध के हालात ना बन जाए क्योंकि जिस तरह अमेरिका का नुकसान हो रहा है जिस तरह से वहां लोगों की मौतें हुई हैं उतना अमेरिका के निर्माण से आज तक कभी भी इतनी मौतें नहीं हुई है। पूरा विश्वास कोरोना वायरस से परेशान है चाइना को सबक जरूर मिलना चाहिए क्यों चाइना का दोस्त विश्व में सिर्फ एक ही है धूर्त पाकिस्तान जो सब अपनी गरीबी और भुखमरी से मर रहा है। विश्व का कोई भी देश चीन के पक्ष में खड़ा होने वाला आज कमी है कोरोना वायरस को समाप्त कैसे हो आज पूरा विश्व समुदाय इस बात पर सोचे उसके बाद चीन से सभी अपने आर्थिक रिश्ते तोड़ना ही उसकी हार का कारण है । स्वयं धीरे-धीरे हो विश्व से अलग थलग होने पर चीन स्वता कमजोर हो जाएगा।

No comments