Latest News

गांवों में पराली जलाने से बाज नहीं आ रहा किसान

चेतावनी के बावजूद पराली जलाने में जुटा किसान 
 
कमासिन, के0 एस0 दुबे  । सरकार के प्रतिबंध के बावजूद कस्बे से लेकर गांवों तक गेहूं की पराली जलाने का सिलसिला शुरू है। उससे गांव घरों में आग लगने का खतरा मंडराने लगा है। प्रभावशाली किसान पराली जला कर धान की बेड के लिए खेत तैयार करने में जुट गए हैं। मौसम विभाग की आंधी पानी की चेतावनी के बाद भी प्रभावशाली किसान पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे। पराली जलाने को लेकर गांव के लोग दहशत में है।
पर्यावरण प्रदूषण बचाव को मद्देनजर सरकार की ओर से पराली जलाने पर सख्त प्रतिबंध है साथ ही कानूनी कार्यवाही सुनिश्चित की गई है। फिर भी किसान गेहूं की कटाई के बाद अब पराली जला रहे हैं। जिससे पर्यावरण प्रदूषित होता ही है साथ ही गांवों में आग लगने का खतरा उत्पन्न हो गया है। गांवों के लोग इस बात से दहशत में है कि मौसम विभाग की बार-बार चेतावनी के बाद भी किसान लगातार पराली  जलाने का काम कर रहे हैं। पिछले सप्ताह आई भीषण आंधी में कस्बे के उत्तर की ओर खेतों में जल रही गेहूं की पराली से आग ने इतना उग्र रूप
इस तरह खेतों में पराली जला रहा किसान
धारण किया कि आग घरों की ओर तेजी से बढ़ने लगी। पुलिस एवं गांव वालों की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। इससे सबक न लेकर किसान लगातार खेतों में पराली जलाने का काम कर रहे हैं। कस्बे के राम प्रसाद ने बताया कि देर शाम खेतों में जल रही पराली से पूरा वातावरण प्रदूषित हो जाता है यहां तक कि खेतों की पराली की ऊंची आग की लपटों से आसमान मे लालिमा छा जाती है। उन्होंने कहा कि प्रतिबंधित पराली जलाने से गांव मे आग लगने का खतरा उत्पन्न हो गया है। कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। बृजेंद्र द्विवेदी ने बताया की मौसम विभाग ने मई के अंत तक लगातारआंधी पानी की चेतावनी दे रखी है। के बाद भी किसान पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे। खेतों में दिन रात जलाई जा रही गेहूं की पराली से कभी भी अचानक आई आंधी तूफान से गांवों घरों को आग से भारी नुकसान हो सकता है। पुलिस प्रशासन पराली जलाने वालों के विरुद्ध किसी भी कानूनी कार्यवाही से परहेज किए है। क्योंकि पराली जलाने वालों में प्रभावशाली किसान शामिल होते हैं। प्रशासन को पराली जलाने वालों को चिन्हित कर लोगों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए। किसानों का कहना है कि पराली जला कर खेतों को साफ करने का काम किया जाता है। जिससे जल्दी से धान की बेड़े तैयार की जा सके। 

No comments