Latest News

डॉक्टर के शव का चांदपुर में अंतिम संस्कार

मेरठ मेडिकल कालेज में कोरोना से हुई थी मौत 

बिजनौर, संजय सक्सेना - जनपद के चांदपुर निवासी निजी चिकित्सक ने नौ दिन तक कोरोना से जंग लड़ी। मेरठ मेडिकल कॉलेज में उनका उपचार चलता रहा। तबीयत में सुधार नहीं हुआ, बल्कि दिक्कत बढ़ती गई, सोमवार को चिकित्सक इस जंग को हार गए। बिजनौर जिले में कोरोना संक्रमित मरीज की मौत का यह पहला मामला है। चिकित्सक की पत्नी और उनका बेटा भी जांच में कोरोना पॉजिटिव निकले, जो उपचाराधीन हैं। 25 अप्रैल को चांदपुर से निजी चिकित्सक अभय अग्रवाल को तबियत  खराब होने पर बिजनौर में प्राथमिक उपचार के उपरांत मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। यहीं से उनकी कोरोना संबंधी जांच हुई, जिसमें वह पॉजिटिव निकले थे। इसके बाद उनकी पत्नी को भी मेरठ में क्वारंटीन किया गया था। उनकी जांच रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव निकली थी। इसके अलावा चिकित्सक के पुत्र को स्वास्थ्य विभाग ने बिजनौर में ही क्वारंटीन किया था, जिसकी जांच रिपोर्ट दो अप्रैल को लखनऊ से आई,
जिसमें वह भी संक्रमित निकला। उधर, चिकित्सक और उनकी पत्नी का मेरठ मेडिकल कॉलेज में ही उपचार चलता रहा। सोमवार को चिकित्सक ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इस संबंध में बिजनौर के जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को सूचना दे दी गई। वहीं मंगलवार को एम्बुलेंस पर डॉक्टर का शव मेरठ से  चांदपुर लाया गया। अन्तिम संस्कार के लिए शव को राजकीय इन्जीनियरिग कालेज चांदपुर के पास शमशान स्थल पर ले जाया गया। डॉक्टर के छोटे पुत्र शान्तनु ने मुखाग्नि दी। इस दौरान कोई अन्य परिजन व पड़ोसी को वहां आने की अनुमति नहीं दी गई। शान्तनु को सुरक्षा के लिहाज से पीपीई किट पहनाई गई थी। इस अवसर पर चांदपुर तहसील से एसडीएम घनश्याम वर्मा, सीओ राकेश कुमार श्रीवास्तव, कोतवाल अजय कुमार, पुलिस बल तथा नगरपालिका ईओ अनुज कौशिक व उनकी टीम मौजूद रही। माहौल हुआ गमगीन डा. अभय अग्रवाल का शव चांदपुर शवदाह गृह में पहुंचने की खबर पर नगर व क्षेत्र में माहौल  गमगीन हो गया। मालूम हो कि डा. अभय अग्रवाल की पत्नी उषा भी मेरठ अस्पताल में भर्ती हैं तथा उनका एक पुत्र कोरोना वायरस की बीमारी से मुरादाबाद अस्पताल में जूझ रहा है। एक अन्य परिजन नूरपुर सीएचसी में कोरेन्टीन है। 

No comments