Latest News

शराब दुकानें खोलने का निर्णय अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण: रूपम

मां फाउण्डेशन ने ठेकों को बंद कराये जाने की उठायी मांग 
  
फतेहपुर, शमशाद खान । कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए किये गये लाकडाउन के बीच केन्द्र सरकार के निर्देश पर सभी प्रदेश सरकारों द्वारा आबकारी दुकानों को खोलने का निर्णय लिया गया। पहले ही दिन शराब के ठेकों पर सोशल डिस्टेंसिंग की खुलेआम धज्जियां उड़ाई गयी। इस पर लोगों ने कड़ी आपत्ति भी जतायी है। शराब दुकानें खोलने के सरकार के निर्णय को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए मां फाउण्डेशन के संस्थापक/संचालक शांतिदूत रूपम मिश्रा ने जिलाधिकारी को एक पत्र सौंपकर शराब ठेकों को बंद कराये जाने की मांग की। 
डीएम को ज्ञापन देने जाते मां फाउण्डेशन के पदाधिकारी।
माॅं फाउण्डेशन के संस्थापक/संचालक शांतिदूत रूपम मिश्रा अपने समर्थकों संग कलेक्ट्रेट पहुंचे और जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपकर बताया कि आज जहां पूरा भारत कोरोना महामारी से लड़ रहा है वहीं दूसरी तरफ मुस्लिम समुदाय का रमजान का पवित्र महीना चल रहा है। इस स्थिति में सरकार द्वारा शराब के ठेके खोलने का निर्णय अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। कहा कि आज हमारा जनपद कोविड-19 से लड़ते हुए जहां ग्रीन जोन में है वहीं ये खुली हुयी शराब की दुकानें कोरोना संक्रमण को बढ़ाने में सहयोगी न बन जायें। जिससे कहीं जनपद की स्थिति भयावह न हो जाये। उन्होने जिलाधिकारी से मांग किया कि जनपद की सभी शराब दुकानों को बंद कराने का निर्णय पूर्ण आत्मविश्वास के साथ लेना होगा। जिससे समाज में कोरोना संक्रमण, भय, भूख, भ्रष्टाचार, अपराध, मार्ग दुर्घटना व बलात्कार जैसी जघन्य अपराधों से बचाया जा सके। इस मौके पर विनोद सिंह चंदेल, राशिद बाबा, नागेन्द्र पासवान, पवन साहू, टिंकू शुक्ला, विकास सिंह आदि मौजूद रहे। 

No comments