Latest News

आज आएगी श्रमिक स्पेशल ट्रेन

1220 मजदूर आएंगे, रोडवेज बसों से गंतव्य को भेजे जाएंगे 
जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक तथा एडीएम ने किया स्टेशन का निरीक्षण 

बांदा, के0 एस0 दुबे । रेलवे स्टेशन का 43 दिनों का सन्नाटा गुरुवार को को टूट जाएगा। लाकडाउन के दौरान गुजरात प्रांत में फंसे 1220 प्रवासी मजदूरों को लेकर श्रमिक स्पेशल ट्रेन गुरुवार को यहां आएगी। स्पेशल ट्रेन से आने वाले लगभग 950 प्रवासी मजदूर जिले के रहने वाले हैं। जबकि शेष 270 यात्री चित्रकूट, महोबा, हमीरपुर और पड़ोसी जनपद फतेहपुर के निवासी हैं। जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल और पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीणा ने रेलवे स्टेशन का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया। मुख्य गेट समेत अन्य निकासी मार्गों

रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करते जिलाधिकारी अमित सिंह बसंल, एडीएम संतोष बहादुर और एसपी एसएस मीणा
को बंद करने के निर्देश दिए। स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-2 से सभी प्रवासी मजदूर स्टेशन के बाहर निकाले जाएंगे। गुजरात से आने वाली ट्रेन में सवार सूरत में फंसे जिले के लगभग 950 मजदूरों सहित 1220 श्रमिकों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए जिला प्रशासन ने व्यापक तैयारियां की हैं। गुजरात से आने वाली ट्रेन के 22 डिब्बों में पांच जिलों के मजदूर शामिल हैं। इसमें बांदा, चित्रकूट, हमीरपुर, महोबा और पड़ोसी जनपद फतेहपुर के मजदूर हैं। गुरुवार को सुबह लगभग 6रू40 बजे प्रवासी मजदूरों से भरी स्पेशल ट्रेन यहां प्लेटफार्म नंबर-2 पर आएगी। जिनकी स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग होने के बाद गृह जनपद के लिए भेजा जाएगा। रेलवे स्टेशन पहुंचने वाली ट्रेन में सवार मजदूरों की जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की तीन टीमें तैनात की गई हैं। प्रवासी मजदूरों को स्टेशन पर ही जांच करके बाहर खड़ी उनके जिलों की बसों में बैठाकर भेज दिया जाएगा। उधर, डीएम और एसपी ने बुधवार को रेलवे स्टेशन का
मजदूरों के वापस आने को लेकर रेलवे सर्कुलेटिंग एरिया में लगाई गई बैरिकेडिंग
घूम-घूम कर निरीक्षण करते हुए व्यवस्थाओं का जायजा लिया। डीएम ने स्टेशन से बाहर जाने वाले सभी रास्तों पर बैरीकेडिंग कराते हुए बंद कराने के निर्देश दिए। डीएम ने बताया कि श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आने वाले मजदूरों को घर तक पहुंचाने के लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। थर्मल स्क्रीनिंग करने के बाद ही सभी को रवाना किया जाएगा। इधर, गुजरात के विभिन्न जिलों से आने वाले मजदूरों को घरों तक पहुंचाने के लिए प्रशासन ने परिवहन निगम की 50 बसों का अधिग्रहण किया गया है। बांदा डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक परमानंद ने बताया कि गुरुवार को सुबह गुजरात से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से पांच जिलों के 1220 प्रवासी मजदूर यहां आएंगे। इनमें लगभग 950 मजदूर बांदा जिले के विभिन्न गांवों और कस्बों के रहने वाले हैं। जबकि चित्रकूट, हमीरपुर, महोबा और पड़ोसी जनपद फतेहपुर के लगभग 270 यात्री हैं। गुजरात से आने वाले मजदूरों को घरों तक पहुंचाने के लिए परिवहन निगम की 50 बसें लगाई गई हैं। बताया कि चालकों और परिचालकों को मास्क, सैनिटाइजर और ग्लब्स दिए गए हैं। बसों को भी सैनिटाइज कराया गया है। इनमें दो बसें चित्रकूट और एक-एक बस
गुरुवार को प्लेटफार्म नंबर दो पर रुकेगी श्रमिक स्पेशल ट्रेन
हमीरपुर और फतेहपुर रवाना की जाएंगी। शेष 46 बसें जिले के विभिन्न क्षेत्रों को रवाना होंगी। औसतन एक बस में 26 यात्री बैठाए जाएंगे। जिलाधिकारी के निर्देश पर रेलवे स्टेशन के सभी रास्तों को बैरीकेडिंग कर बंद कर दिया गया। गुरुवार को सुबह श्रमिक स्पेशल ट्रेन प्लेटफार्म नंबर दो पर रुकेगी। मजदूरों को ट्रेन से उतरते समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इसके लिए प्लेटफार्म नंबर दो पर गोले बनाए गए हैं। हरेक मजदूर को ट्रेन से उतरने के बाद इन्हीं गोलों पर खड़ा होना होगा। इसके बाद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए प्लेटफार्म दो से बाहर आएंगे। चंद कदम दूर रेलवे अस्पताल के पास परिवहन निगम की बसों में मजदूरों को बैठा कर रवाना किया जाएगा। जिले में मजदूरों को लेकर आने वाली यह श्रमिक स्पेशल पहली ट्रेन है। आरपीएफ और जीआरपी जवानों को मुस्तैद रहने को कहा गया है। मजदूरों को लेकर स्पेशल ट्रेन गुरुवार को सुबह यहां आएगी। सुरक्षा के मद्देनजर सिविल पुलिस के साथ आरपीएफ और जीआरपी जवानों को भी मुस्तैद किया गया है। आरपीएफ थाना इंस्पेक्टर एसके जांगिड़ और जीआरपी थानाध्यक्ष रामबरन सिंह ने बताया कि सुरक्षा के लिहाज से सभी जवानों को तैनात किया गया है। सभी जवान प्लेटफार्म में तैनात रहेंगे। मजदूरों पर कड़ी नजर रखेंगे। 

No comments