Latest News

सदर अस्पताल में थर्मल स्क्रीनिंग के लिए प्रवासियों की लगी कतार

व्यवस्थाओं की खुली पोल, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

फतेहपुर, शमशाद खान । कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जहां केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा तमाम प्रयास किये जा रहे हैं। वहीं गैर प्रान्तों व जनपदों से आने वाले लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग के लिए सदर अस्पताल को केन्द्र बनाया गया है। प्रतिदिन थर्मल स्क्रीनिंग के लिए प्रवासियों की लम्बी-लम्बी कतार सदर अस्पताल में लग रही है। यह लाइनंे सदर अस्पताल की व्यवस्थाओं की जहां पोल खोल रही हैं वहीं सोशल डिस्टेंसिंग की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। ऐसे में अब यह कहा जाये कि कोरोना वायरस को फैलने से कैसे रोका जाये। जब सरकारी सुविधाएं ही बौनी है तो आम इंसान क्या करेगा। 
सदर अस्पताल में प्रवासियों की लगी लम्बी लाइन।
बताते चलंे कि देश में जब से केन्द्र सरकार ने लाकडाउन किया है तब से गैर प्रान्तांे व जनपदों में मेहनत मजदूरी करने वाले प्रवासी मजदूरों का यहां आने का सिलसिला लगातार जारी है। बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर पैदल, साइकिल, बाइक समेत अन्य संसाधनों से प्रतिदिन यहां आ रहे हैं। इन इसके अलावा प्रदेश सरकार द्वारा भी बसों व ट्रेनों से प्रवासी मजदूर बुलाये गये थे। बस व ट्रेन से आने वाले प्रवासी मजदूरों की थर्मल स्क्रीनिंग रेलवे स्टेशन व सम्बन्धित रोडवेज स्टेशन में ही करा दी जाती है। इसके अलावा प्राइवेट साधनों से गन्तव्य को आने वाले प्रवासी मजदूरों की थर्मल स्क्रीनिंग के लिए सदर अस्पताल को केन्द्र बनाया गया है। सदर अस्पताल में थर्मल स्क्रीनिंग कराने वाले मजदूरों की भीड़ उमड़ रही है। सोमवार को सदर अस्पताल के ट्रामा सेंटर (आइसोलेशन वार्ड) के बाहर पूरब और पश्चिम दिशा में दो लम्बी-लम्बी लाइनें दिखाई दी। यह लाइनें थर्मल स्क्रीनिंग के लिए रहीं। सोशल डिस्टेंसिंग की खुलेआम धज्जियां भी उड़ाई गयी। लेकिन किसी भी अधिकारी व कर्मचारी ने इस पर उंगली नहीं उठायी। यदि हालात इसी तरह रहे तो यह अस्पताल ही कोरोना वायरस को फैलाने का केन्द्र बन जायेंगे। उच्चाधिकारियों को तत्काल इस मामले पर हस्ताक्षेप करने की जरूरत है। जिससे व्यवस्थाएं दुरूस्त रह सकें और आने वाले प्रत्येक प्रवासी मजदूर की आसानी के साथ थर्मल स्क्रीनिंग की जा सके। 

No comments