Latest News

रहनुमाओं ने अपने दामन में समेटा गरीबों का दर्द

राशन, फल, सब्जी के साथ ही सेनेटाइजर और मास्क का हो रहा वितरण 
 
बांदा, के0 एस0 दुबे । गरीबों की मदद के लिए हर राह पर मददगार अपना दामन फैलाए बैठे हैं। गरीबों, बेसहारा लोगों के साथ ही परदेश से अपने वतन लौटने वाले कामगारों की दिल खोलकर मदद की जा रही है। कोई राशन वितरित कर रहा है तो कोई सब्जी, तो कोई फल और दूध का वितरण कर रहा है। सेनेटाइजर और मास्क के वितरण में भी कोई कोताही नहीं बरती जा रही है। खाईंपार चैकी के कांस्टेबल मोहम्मद याकूब सिद्दीकी ने तो खाकी वर्दी का मान बढ़ाते हुए गरीबों की मदद खुद अपने स्तर से कर रहे हैं। इस दौरान कांस्टेबल गरीबों को राशन, फल, सब्जी वितरित करने के साथ ही आर्थिक मदद भी दे रहे हैं। 
अंकित अग्निहोत्री, शीलू लखेरा, विकास जोशी, कांस्टेबल याकूब सिद्दीकी
समाजसेवी अंकित अग्निहोत्री की ओर से शहर के विभिन्न स्थानों में मौजूद गरीबों को राशन का वितरण किया गया है। इसके साथ ही वर्तमान समय में घर लौट रहे प्रवासी कामगारों को भी लंच पैकेट का वितरण कराया गया। मास्क और सेनेटाइजर वितरण में भी कोई कोताही नहीं बरती गई है। समाजसेवी ने कहा कि लाक डाउन के दौरान गरीबों को हर संभव मदद उपलब्ध कराई जाएगी। समाजसेवी शीलू लखेरा के द्वारा गरीबों और बेसहारा लोगों को ढूंढ-ढूंढकर भोजन और राशन का वितरण किया गया है। समाजसेवी के द्वारा लाक डाउन के दौरान गरीबों की सेवा की गई और वर्तमान समय में भी की जा रही है। समाजसेवी का कहना है कि जब तक लाक डाउन रहेगा, तब तक गरीबों और जरूरतमंदों को हर संभव मदद करने का प्रयास किया जाएगा। गरीबों को भूखा नहीं रहने दिया जाएगा। समाजसेवी विकास जोशी भी लाक डाउन में गरीबों को राशन वितरण करने, लंच पैकेट का वितरण कराने में कतई पीछे नहीं हैं। भूखे गरीबों को लंच पैकेट देकर गरीबों की भूख मिटाने का प्रयास किया जा रहा है। यह सिलसिला लगातार जारी है। श्री जोशी ने कहा कि वह अपने स्तर से और अपने अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर पुण्य कार्य कर रहे हैं। सिलसिला लाक डाउन के दौरान तक जारी रहेगा। खाईंपार चैकी में कांस्टेबल के तौर पर तैनात मोहम्मद याकूब सिद्दीकी ने तो वर्दी का मान बढ़ाया है। लाक डाउन के दौरान वह गरीबों को ढूंढ़-ढूंढ़कर लंच पैकेट, ब्रेड, राशन और फलों का वितरण कर रहे हैं। इसके साथ ही कांस्टेबल से जो भी बन पड़ता है, वह आर्थिक तौर पर भी गरीबों की मदद करते हैं। क्योंकि वर्तमान में पेट भरने के अलावा भी कुछ जरूरतें होती हैं जो धन से पूरी होती हैं। कांस्टेबल ने कहा कि वह लगातार गरीबों की मदद करते रहेंगे। 

1 comment: