Latest News

कोरोना ने बनाया अपनो को बेगाना

हमीरपुर, महेश अवस्थी  । बाहरी प्रदेशो से मजदूरो के लगातार आने से ,जहां गांवो मे इन्हे सन्देह की नजर से देखा जा रहा है । वहीं प्रशासन इनकी पूरी जांच पडताल कराने के साथ ही इन्हे 15 दिन की राशन सामग्री देकर इन्हे गांव मे ही अपने घरो मे 21 दिन क्वाण्टीन रहने की हिदायते देकर रवाना कर रहे है। मकरांव के अस्थाई शेल्टर होम सुन्दर लाल शिवहरे डिग्री कालेज मे सुबह 63 मजदूर सूरत व अहमदाबाद से यहां आये। पहले विधिवत इनके चिकित्सकीय परीक्षण कराने के साथ स्नान और भोजन कराया गया। तहसीलदार रामानुज शुक्ला व नायब तहसीलदार दिवाकर मिश्र ने अपने अधीनस्थो के सहयोग से 10 किला आटा , 10 किलो चावल , 2 किलो भुंजा चना, 2 किलो दाल , 1 किलो तेल, नमक , मसाले व सब्जी की किट देकर सम्बघित गांव को रवाना  कर दिया । जो शाम तक जारी रहा। इन मजदूरो मे अधिकतर महेरा, इमीलिया, बसवारी, छानी, खैर, छिमौली सहित विभिन्न गांव के मजदूर थे।कोरोना बीमारी का भय और बचाव के मामले मे लाकडाउन से आम जनमानस काफी जागरूक हो चुका है । जब बाहर से आने वाले मजदूर गांव पहुंचते है , तो गांव वाले अपनो को देख की ही पराया मानने लगते है। जबकि लम्बी दूरी तय कर मुसीबत के मारो को अपना गांव और अपने लोग देखकर बेहद खुशी होती है। बीमारी से लडना व बचाव उचित है, किन्तु बचाव मे अपनो से मुह मोड लेना मानवीय दृष्टि से सही नही कहा जा सकता।
हमीरपुर में बाहर से आये मजदूरों को जाँच के बाद भेजा गया घर । नोएडा और सूरत से पैदल चलकर आए मजदूरों को पुलिस ने सुमेरपुर कस्बे में भोजन कराकर गंतव्य के लिए रवाना किया । बांदा सहित सुमेरपुर कस्बे के कुछ लोग नोएडा व सूरत में रहकर मजदूरी कर रहे थे. लाक डाउन  में फस जाने के बाद जब उनके पैसे और राशन खत्म हो  गया और कोई सहायता नही मिली । तो इन्होने पैदल ही घर लौटने का निर्णय लिया. एक सप्ताह पूर्व पैदल यात्रा करके सुमेरपुर  कस्बे में आए।  इन मजदूरों को पुलिस बस स्टाँप मे रोककर और कुछ को घरों से बुलाकर जाँच कराकर ही घरों में क्वाँरेटाइन रहने की सलाह दी. पुलिस की सलाह मानकर सभी मजदूर पीएचसी सुमेरपुर पहुंचे । जहां पर जांच के बाद सभी मजदूरों को नगर पंचायत के कम्युनिटी किचन सेंटर मे भोजन कराने के बाद गंतव्य के लिए रवाना किया गया ।

आंधी में उड़ा ग्रामीण, मौत
 हमीरपुर ।मौदहा कोतवाली क्षेत्र के नारायच गांव में तेज तूफान आने से गांव में वाजिद अली छत में लेटा था ।  तेज तूफान आने से अपने छत से उड़कर दूसरे की छत में जा गिरा ।जिससे उसके मुँह व सिर में गंभीर चोट आई ।  इलाज के लिए मौदहा से हमीरपुर लेकर जा रहें थे, तभी रास्ते में ही उसकी मौत हो गई ।पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया है ।

No comments