Latest News

बिजली कर्मचारी संघ ने काली पट्टी बांधकर किया प्रदर्शन

केन्द्रीय श्रम संगठनों के आवाहन पर मनाया गया देशव्यापी विरोध दिवस  

बांदा, के0 एस0 दुबे । केन्द्रीय श्रम संगठनों के आहवान पर शुक्रवार को देशव्यापी विरोघ दिवस मनाये जाने के क्रम में उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ ने भी काली पट्टी बांधकर सोशल डिस्टेसिंग के साथ विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही सरकार की नीतियों का जोरदार विरोध करते हुये प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजकर समस्याओं के निस्तारण की मांग की गई।
पावर स्टेशन में प्रदर्शन करते बिजली कर्मचारी
प्रधानमंत्री को भेजे गये पत्र में संघ के महामंत्री अनिल यादव ने बताया कि श्रम कानूनों से तीन साल छूट देने के निर्णय को वापस लिया जाये। राज्य कर्मचारियों के मंहगाई भत्ता एवं पेंशनरों के मंहगाई राहत सहित समाप्त किये गये अन्य आठ भत्तों को तुरन्त बहाल किया जाये। सूक्ष्म, लघु व माध्यम उद्योगों को विशेष पैकेज दिया जाये। मजदूरों के वेतन का 80 प्रतिशत हिस्सा सरकार द्वारा दिया जाये। आयकर न देने वाले सभी परिवारों को तीन महीने तक साढे सात हजार रूपये दिये जाये। कोरोना से मुकाबला कर रहे कर्मचारियों, डाक्टर, नर्स, स्वास्थ्य कर्मी, सफाई कर्मचारी, आंगनबाडी, आशा कर्मी, विद्युत कर्मियों, पुलिस आदि को आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराये जायें। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से सभी को तीन महीने तक राशन निशुल्क उपलब्ध कराया जाये। बिजली सहित तमाम सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाओं के निजीकरण को रोका जाये। प्रवासी मजदूरों के परिवारों को उनके घर तक सुरक्षित निशुल्क भेजने का प्रबंध किया जाये, साथ ही सड़क हादसों में दुर्घटनाग्रस्त हुये सभी प्रवासी मजदूरों के परिवारों को मुआवजा दिया जाये। इस दौरान आनन्द पाल, मोहन राजपूत, अनिल यादव, अमरेश पाल, कमाल अहमद, आलोक शर्मा, मो. रजा, सुरेश सिंह, जीतेन्द्र, रवीन्द्र यादव, संतलाल, अकरम, रवि, प्रकाश गोविन्द, अर्जुन, सुनील तिवारी आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

2 comments: