Latest News

कलयुगी मां ने बेटी की हत्या कर शव घर में दफनाया

गिरवां थाना के खुरहंड गांव में हुई सनसनीखेज घटना
एसपी, अपर एसपी और पुलिस अफसर मौके पर पहुंचे 

बांदा, के0 एस0 दुबे । गिरवां थाना क्षेत्र के खुरहंड में सोमवार की दोपहर दिल दहला देने वाली घटना का खुलासा हुआ। वहां पर एक मां ने अपनी किशोर उम्र बेटी की गला दबाकर न सिर्फ हत्या कर दी बल्कि उसे घर के बाहर दीवार से सटाकर गड्ढा खोदा और दफना दिया। 10 दिन तक जब बेटी नजर आई तो चाचा ने गिरवां थाने में तहरीर दे दी। हरकत में आई पुलिस ने मां से सख्ती के साथ पूछतांछ की तो मां ने पूरा राज उगल दिया। उसने स्वीकार किया कि बेटी की हत्या करने के बाद उसे दफना दिया गया। खबर पाकर एसपी, एएसपी और सीओ नरैनी मौके पर पहुंच गए। फारेंसिंग टीम ने भी नमूने लिए हैं। 
मौके पर मौजूद एएसपी
गिरवां थाने के खुरहंड निवासी राममूरत उर्फ चुन्नू सिंह पिछले कई वर्षों से दिल्ली में रहकर मजदूरी करता है। जबकि उसकी पत्नी सरोज और उसके छह बच्चे घर में ही रहते हैं। तकरीबन 10 दिनों से बेटी शिल्पी (14) नजर नहीं आ रही थी। इसको लेकर सरोज को तो कोई फर्क नहीं पड़ा, लेकिन पारिवारक चाचा ने गिरवां थाने में इत्तला कर दी। हरकत में आई गिरवां थाना पुलिस ने तहकीकात शुरू की। सोमवार को पुलिस खुरहंड पहुंची और लापता बेटी शिल्पी की मां सरोज से सख्ती के साथ पूछतांछ की। पहले तो सरोज ने आनाकानी की, लेकिन बाद में सब कुछ उगल दिया। सरोज ने बताया कि उसकी बेटी गलत रास्ते पर चल रही थी, इसीलिए उसकी हत्या कर शव घर के बाहर दीवार से सटाकर दफना दिया गया। सरोज की निशानदेही पर ही पुलिस ने क्षत-विक्षत शव बरामद किया है। गिरवां थाना प्रभारी शशि कुमार पांडेय ने बताया कि सरोज को गिरफ्तार कर लिया गया है, पूछतांछ की जा रही है। खबर पाकर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीणा, अपर पुलिस अधीक्षक एलबीके पाल और सीओ नरैनी भी मौके पर पहुंच गए। फारेंसिंक टीम के सदस्य भी मौके पर पहुंचे और नमूने लिए। गौरतलब हो कि मृतका का पिता दिल्ली में रहकर मजदूरी करता है। अपर पुलिस अधीक्षक एलबीके पाल ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है। मृतका के तीन भाई रुद्रप्रताप सिंह, हिमांशु, सचिन और बहनें शिवानी और रश्मी हैं। थाना प्रभारी गिरवां शशि पांडेय ने बताया कि मृतका के चाचा भवानी प्रताप सिंह की तहरीर पर धारा 302 व 201 के तहत महिला सरोज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। 
पुलिस

गलत रास्ते पर कौन था मां या फिर बेटी 
बांदा। अपनी बेटी की हत्यारिन मां सरोज से पुलिस ने पूछतांछ की तो उसने अपनी बेटी की हत्या करने और उसका शव दफनाने का कारण बेटी की बदचलनी बताया है। जबकि सूत्रों का दावा है कि हत्यारिन मां सरोज गलत रास्ते पर चल रही थी। इसका बेटी ने विरोध किया और सरोज ने अपनी बेटी की हत्या कर डाली। 

हत्या करने में कोई और भी शामिल 
बांदा। बेटी हत्या करने और उसके गड्ढा खोदकर दफनाने के काम में सरेाज अकेले नहीं है। इसके साथ कोई और भी है। पुलिस ने गांव के एक युवक को पकड़ा है। अभी उससे पूछतांछ की जा रही है। गांव के लोगों ने बताया कि मृतका के घर कुछ लोगों का अक्सर आना-जाना बना रहता था। हत्या की वजह गलत रास्ते पर चलना ही निकलकर सामने आया है। 


No comments