Latest News

पैदल आने वालों को साधन से भेजा जाए

हमीरपुर, महेश अवस्थी  । जिलाधिकारी डॉ ज्ञानेश्वर त्रिपाठी व पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने हमीरपुर के सरसई गांव में  जालौन -हमीरपुर की सीमा में बने पुलिस बैरियर  पर पहुंचकर लॉक डाउन की व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
जनपद जालौन की ओर से पैदल आ रहे मजदूरों / व्यक्तियों तथा  ट्रको व बसों की छतों पर बैठे सैकड़ों मजदूरों/लोगों को उतारकर प्राथमिक विद्यालय सरसई में रोका गया तथा इन सभी लोगों का  नाम ,पता का विवरण अंकित करके उनको रोडवेज हमीरपुर डिपो की बस द्वारा  मजदूरों को उनके गंतव्य स्थान  बांदा ,चित्रकूट, महोबा ,राठ ,फतेहपुर ,सजेती  स्थानों पर भेजा गया । जिससे बाहर से आने वाले श्रमिको / व्यक्तियों में खुशी की लहर दौड़ गई और उन्होंने जिला प्रशासन हमीरपुर को धन्यवाद  दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि मजदूरों/ लोगों को  उनके गंतव्य स्थान पर
भेजने से पहले उनके लिए कम्युनिटी किचेन  में बने भोजन तथा पानी  की व्यवस्था कर दी जाय।  हमीरपुर जनपद के विभिन्न स्थानों पर जाने वाले मजदूरों/ लोगों को रोडवेज बस के माध्यम से मकराव शेल्टर होम में भेजा गया है । जहां उनकी जरूरी जांच की जाएगी। मकराव शेल्टर होम में उनके खाने-पीने सभी प्रकार की व्यवस्था की गई है। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में बाहर से आने वाला कोई भी  मजदूर पैदल नहीं मिलना चाहिए ।  पैदल  मिलने वाले मजदूरो /लोगों को तत्काल रोककर उनको बसों के माध्यम से उनके गंतव्य स्थान भेजा जाए।  ऐसे मालवाहक वाहन जो सवारी बैठा रहे हैं, उनको सीज करने की कार्रवाई की जाए। जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने हमीरपुर - महोबा सीमा पर स्थित रीवन बैरियर में पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया तथा कहा कि पैदल आने वाले लोगों को रोक कर उनको बसों के माध्यम से गंतव्य स्थान भेजा जाए । इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए।

No comments