Latest News

भूखे रोडवेज कर्मचारियों ने किया हंगामा, नारेबाजी

भोजन उपलब्ध होने के बाद शांत हो सका गुस्सा 

बांदा, के0 एस0 दुबे । रोडवेज कर्मचारियों को शुक्रवार की दोपहर जब खाना नहीं मिला तो नाराज होकर कर्मचारियों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। आनन-फानन में रोडवेज कर्मचारियों को अधिकारियों ने भोजन उपलब्ध कराया, तब कहीं जाकर उनका गुस्सा शांत हो सका। 
शुक्रवार को तीन श्रमिक स्पेशल ट्रेनें बांदा आईं। इनमें सवार तकरीबन पांच हजार यात्रियों की बाकायदा चेकिंग की गई। स्क्रीनिंग के दौरान कोई भी यात्री संदिग्ध न मिलने के कारण उनको क्वारंटीन भेजने का निर्णय लिया गया। क्वारंटीन सेंटर पैलानी, अतर्रा, पचनेही, नरैनी और शहर के भागवत प्रसाद मेमोरियल स्कूल और विद्यावती निगम
डिपो में नारेबाजी करते रोडवेज कर्मचारी
स्कूल में भेजने के लिए 125 रोडवेज बसों का बेड़ा लगाया गया था। जरूरत के हिसाब से संबंधित रूट के लिए बसें उपलब्ध कराई गईं। चेकअप के बाद प्रवासी मजदूर रोडवेज बसों में सवार हो गए। जिन रोडवेज कर्मियों को भोजन उपलब्ध हो चुका था, वह रूट पर बस लेकर रवाना हो गए। जबकि जिन रोडवेज कर्मियों को भोजन उपलब्ध नहीं हुआ था वह हंगामा करने पर आमादा हो गए। भूखे रोडवेज कर्मियों ने कहा कि उन्हें बुला लिया गया है, लेकिन भोजन और पानी का कोई इंतजाम नहीं किया गया है। बाद में किसी तरह से रोडवेज कर्मचारियों ने मामले को संभाला। रोडवेज के एआरएम परमानंद ने बताया कि 125 बसें प्रवासी मजदूरों को क्वारंटीन सेंटर तक पहुंचाने के लिए लगाई गई थीं। तीन ट्रेनों में जानकारी से अधिक कामगार पहुंच जाने के कारण कुछ अव्यवस्था हो गई। उन्होंने बताया कि 100 लंच पैकेट बनवाए गए थे, वो रोडवेज कर्मियों को दे दिए गए। कामगारों की संख्या बढ़ने के कारण और रोडवेज बसों को रवाना करने की जरूरत पड़ी, इस पर और कर्मचारियों को लगाया गया। एआरएम ने कहा कि भोजन उपलब्ध होने में थोड़ा देर जरूर हुई है, लेकिन भोजन पर्याप्त था। 

No comments