Latest News

रमजानुल मुबारक में हर बालिग पर फर्ज है रोजा

अल्लाह से मांगे मग़फिरत की दुआएं 

फतेहपुर, शमशाद खान । इस्लाम धर्म में वर्ष मे एक माह के रोजे रखना प्रत्येक वयस्क स्त्री एवं पुरूष पर फर्ज है। इसी एक माह के रोजे रखने वाले माह को रमजानुल मुबारक के नाम से जाना जाता है। वैसे तो इस माह को बरकतों का महीना, गुनाह (पाप) को क्षमा करवाने का महीना आदि नामो से भी जाना जाता है। वक्त सहरी से शाम इफ्तार के समय तक पानी, खाना व खाने पीने के अतिरिक्त रोजा जिस्म के प्रत्येक अंग का होता है अर्थात रोजदार को चाहिए कि आंख से बुरा न देखे हांथो पैरो को गलत रास्ते पर न ले जाएं। कान से बुरी बाते न सुने, जबान से वह शब्द न निकाले जिसको इस्लाम ने मना किया है। इसी प्रकार शरीर के सभी अंगो का प्रयोग इस्लाम के दिये गये उपदेशों के तहत ही करे साथ ही साथ जहां मजहबे इस्लाम मे एक माह के रोजे रखना फर्ज है। वहीं अल्लाह ने यह भी कहा है कि अपनी जान को हलाकत मे न डालो यानी यदि कोई पुरूष या स्त्री बीमार है और उसकी दवा चल रही है और यह अंदेशा है कि दवा बंद करने से जान हलाकत में पड़ सकती है तो उसके रोजे माफ है। 
स्वस्थ होने पर वह रोजो की भी कजा पूरी कर सकता है। रमजानुल मुबारक के इस माह मे अल्लाह तौबा के दरवाजे खोल देता है और रोजदार के गुनाह माफ करता है। रोजदार को चाहिए कि जिस प्रकार उसके रोजे नही छूट रहे। इसी प्रकार अन्य फर्ज से भी बेखबर न हो। वैसे तो पूरे रमजान के हर दिन और रात की बड़ी कदर है लेकिन इसी माह में अल्लाह ने शबे कद्र की भी कुछ तारीखें बतायी है। जिनमें इंसान अपने सारे गुनाहो को बखशवा सकता है। अल्लाह रोजदार से यह भी उम्मीद रखता है कि रोजा रखने के बाद दूसरो की भूख और प्यास का भी तुम्हें ख्याल रहे। अर्थात तुम्हारे पास सब कुछ होने के बाद भी तुम जब हमारे रोजदार बनोगे तो तुमको पूरे दिन की प्यास और भूख से नसीहत मिलेगी कि जो गरीब तंगहाली की बिना पर भूखे रहते है तो उनका क्या हाल होता है इसी से तुमको नसीहत मिलेगी और तुम गरीबो को भोजन कराकर ही खाया करोगे। प्रत्येक वर्ष मे एक माह रोजे रखवाकर अल्लाह ग्यारह महीने देखता है कि बंदा किस दर्जे तक पहुंचा। इसलिए अल्लाह रोजदार के मुंह से निकली हुई दुआ कुबूल करने के इन्तेजार में रहता है। मोमिन रोजदार को चाहिए कि हर वह अमल करे जो रोजदार को करना चाहिए। खिलाफ अमल से इसलिए बचे कि कहीं रोजा फाका न बन जाए और रोजे की जज़ा न मिल सके।

No comments