Latest News

खाकी की मौजूदगी में शुरू हुई शराब की बिक्री

सोमवार को शराब की दुकानें खुलते ही मची रेलमपेल 
सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ती रहीं धज्जियां 
भीड़ को कई बार पुलिस ने डंडा पटककर खदेड़ा 

बांदा, के0 एस0 दुबे । सोमवार को देशी और अंग्रेजी शराब की दुकानों के शटर खुले तो अपने हलक को तर करने के लिए शराब के शौकीनों की लंबी कतारें लग गईं। स्टेशन और कचहरी रेलवे क्रासिंग के पास दुकानों में खरीददारों की रेलमपेल मची रही। खाकी की मौजूदगी तो रही लेकिन वह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करा पाई। शराब की बिक्री के पैमाने की पुष्टि आबकारी विभाग के अधिकारी खुद ही नहीं कर सके। उनका कहना है कि जबरदस्त भीड़ के कारण बस बिक्री का दौर जारी है। पुलिस ने भीड़ बढ़ती देखी तो कई बार डंडा पटककर लोगों को खदेड़ा। लेकिन बार-बार शराब के शौकीन ठेकों के पास मंडराते ही रहे। लाकडाउन की वजह से रेलवे और परिवहन व्यवस्था समेत सब कुछ ठप पड़ा है। दुकानें भी नहीं खुल रही। दुकानें खुलने न खुलने को लेकर रविवार से ही ऊहापोह की स्थिति थी। रविवार रात को डीएम के अपने निर्देश मनें इस बात का उल्लेख किया था कि लॉकडाउन 3.0 में कोई नई छूट नहीं
शराब ठेके के बाहर खरीददारी के लिए लगी शराब शौकीनों की भीड़ 
दी जाएगी। पूर्व की तरह सभी लोगों को लाकडाउन का पालन करना पड़ेगा। न तो दुकानें खुलेंगी और न ही कोई वाहन चलेंगे। शराब की दुकानें भी नहीं खुलेंगी। लेकिन शराब के शौकीनों को उम्मीदें कायम रहीं और लोग उम्मीद लगाए बैठे रहे कि बांदा आॅरेंज जोन में है इसलिए कुछ राहत जरूर मिलेगी। लोगों को उम्मीद थी कि सोमवार को शराब की दुकानें खुलेंगी। सुबह से ही शराब कारोबारियों में भारी ऊहापोह की स्थिति रही। आखिरकार दोपहर बाद डीएम ने दुकानें खोलने का आदेश जारी कर दिया। दुकानें खोलने का आदेश दोपहर बाद हुआ लेकिन दुकानों पर सुबह से ही दुकानों के इर्दगिर्द शराब के शौकीनों की भीड़ लगी रही। सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियां उड़ने की खबर मिलने पर पुलिस सक्रिय हो गई। आनन-फानन में लाठियां पटक कर पुलिस ने शराब के शौकीनों को कतार में खड़ा किया। पुलिस ने सख्ती बरत कर सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ाया। कई दुकानों पर दोपहर तक ही स्टाक खत्म हो गया। ठेंकों पर मौजूद लोग प्रशासन के निर्देशों का पालन नहीं कर सके। उनके पास न तो मास्क नजर आया और न ही ग्लब्स ही नजर आए। 

No comments