Latest News

आबकारी अनुज्ञापियों ने फीस माफ करने की मांग उठाई

अनुज्ञापियों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर उठाई कार्यवाही की मांग
 
बांदा, के0 एस0 दुबे । वैश्विक महामारी कोविड-19 और उसके आर्थिक एवं सामाजिक दुष्प्रभाव की अप्रत्याशित घटना के कारण उत्पन्न समस्याओं को देखते हुये लाकडाउन अवधि की फुटकर अनुज्ञापियों की लाइसेंस फीस और पूर्व में निर्धारित कोटा समाप्त करने के लिये अनुज्ञापियों ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर कार्यवाही की मांग की है। 
मुख्यमंत्री को भेजे गये पत्र में आबकारी अनुज्ञापियों ने बताया कि जनपद के सभी अनुज्ञापी देशी, विदेशी व वियर आदि के कारोबार से जुडे हुये है। वर्ष 2020-21 के लिये नवीनीकरण के माध्यम से दुकान आबकारी नीति के अनुसार आवंटित की गई है। जिसे सरकार द्वारा पूर्व वर्ष की परिस्थितियों को ध्यान में रखकर बनाई गई आबकारी नीति और नियमों के अनुसार स्वीकृत किया गया था। लेकिन मार्च 2020 से लाकडाउन प्रभावी कर दिया गया था। जिससे बीते 2 मई तक दुकाने बंद रही। इसके बाद दुकान खोलने के आदेश जारी कर दिये गये। लेकिन वर्तमान में
जिलाधिकारी को ज्ञापन देने आए लोग 
पहले जैसी बिक्री संभव नही है। आबकारी नीति के अनुसार देशी मदिरा की दुकानों के अनुज्ञापियों के लिये न्युनतम प्रत्याभूत मात्रा निर्धारित की गई तथा मासिक न्युनतम प्रत्याभूत मात्रा के बराबर अपनी अनुज्ञा के अनुसार देशी मदिरा की निकासी उठाने की बाध्यता का प्राविधान है। जिसके पूर्ण न होने पर दंड का प्राविधान है और कमी की धनराशि की पूर्ति प्रतिभूति की धनराशि से करने का प्राविधान है। मासिक एवं वार्षिक न्युनतम प्रत्याभूत की मात्रा का सिद्धान्त पूर्व की स्थिति 2019-20 की स्थिति को देखते हुये किया गया था। लेकिन कोविड-19 के चलते समस्त कार्यक्रम जैसे शादी, ब्याह, सहालके आदि समस्त बंद हो गये एवं निकट भविष्य में बरसात आने वाली है, बरसात के भी चार माह लाकडाउन से ज्यादा बिक्री प्रभावित करते है। ऐसी स्थिति में अनुज्ञापियों के लिये निर्धारित कोटा उठाना संभव नही है। उन्होने मांग की है कि लाकडाउन की अवधि में सभी प्रकार के आबकारी अनुज्ञापियों की लाइसेंस फीस माफ की जाये। साथ ही सभी प्रकार की देशी मदिा व विदेशी मदिरा एवं बियर के निर्धारित कोटे को तत्काल वापस लेने के आदेश पारित किये जाये। इस दौरान सुनील सिंह गौतम, सत्येन्द्र प्रताप सिंह, रामलखन यादव, रामबहादुर सिंह, श्यामसुन्दर, दिनेश सिंह, हरिश्चन्द्र, रामसुहावन, अरविन्द, मानवेन्द्र सिंह, बरदानी प्रसाद, आर बी सिंह यादव, रमेश, कल्लू आदि उपस्थित रहे।

1 comment: