Latest News

डीएम ने राहत व्यवस्थाओं की दी जानकारी

बैठक मे बिन्दुवार की समीक्षा, बार्डर पर सतत निगरानी के दिए निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में कोरोना वायरस के बचाव संबंधित बैठक संपन्न हुई।
जिलाधिकारी ने बताया कि 30 अपैल तक 2580 मैट्रिक टन गेहूं खरीद, पशु विभाग ने 30 गौशालाओं का निरीक्षण, 71 ग्राम पंचायतों पर ब्लीचिंग छिड़काव, 23 ग्राम पंचायतों पर कोरोना वायरस रोकथाम की जानकारी दी गई है। 245 हैंडपंप रिबोर, 45 टैंकरों के माध्यम से गांवों में पानी की व्यवस्था, कंट्रोल रूम में 12 समस्याएं भोजन, राशन की प्राप्त हुई। जिनका तत्काल निस्तारण कराया गया। पोस्टमैनो ने 789 लोगों के मध्य पैसा का वितरण गांव में किया। 2040 लोगों ने आरोग्य सेतु एप डाउनलोड किया है। 5161 निराश्रित एवं असहाय लोगो के मध्य भोजन का वितरण तथा टेलीमेडिसिन के माध्यम से 142 मरीजों का इलाज कर निशुल्क दवाएं वितरित की हैं। 1289 कुंतल भूसा किसानों ने गौशालाओं पर दान किया है। प्रत्येक खंड विकास अधिकारी ने 5-5 गांव का भ्रमण कर आवश्यक व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने आरोग्य सेतु एप डाउनलोड पर अधिकारियों से कहा कि जनमानस में अधिक से
बैठक में समीक्षा करते डीएम।
अधिक प्रचार प्रसार हो। जिलाधिकारी ने डिप्टी आरएमओ से कहा कि गेहूं खरीद जारी रहे। दलहन व तिलहन के जो दो क्रय केंद्र खोले जाने हैं उसे एक कर्वी मंडी तथा दूसरा भौरी में खोलने की व्यवस्था कराएं। ताकि किसान अपनी दलहन तिलहन की उपज को शासकीय मूल्य पर बेच सकें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ आरके गुप्ता से कहा कि चिकित्सालय पर दवाओं आदि की व्यवस्थाएं बनी रहे तथा सर्दी, खांसी, बुखार, जुखाम के जो मरीज आ रहे हैं उनके सैंपल की जांच अवश्य कराएं तथा जो बाहर से गांव में व्यक्ति आ रहे हैं उनका भी स्वास्थ्य परीक्षण शत-प्रतिशत कराया जाए। जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों तथा पुलिस क्षेत्राधिकारियों से कहा कि अपने तहसील के अंतर्गत जनपद के सभी बॉर्डरो पर सतत निगरानी रखें ताकि कोई आने-जाने न पाए। इसके अलावा अपने क्षेत्र पर शेल्टर होम में प्रबंध करा लें। टेलीमेडिसिन के मरीजों को समय से दवा उपलब्ध कराये और नये सेन्टर भी खोलें। मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि कन्ट्रोल रूम में समस्याएं प्राप्त हो रही हैं उनका गांव की निगरानी समिति के लोगों से प्रतिदिन रिपोर्ट अवश्य लें। उन्होंने खंड विकास अधिकारियों से कहा कि गौशालाओं का संचालन सही तरीके से रहे। किसी भी ग्राम पंचायत के गोवंश नहीं छूटना चाहिए नहीं तो मैं संबंधित गांव के ग्राम प्रधान व सचिव के खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी। गौशालाओं पर भूसा घर अस्थाई बन जाएं। उन्होंने अन्य विभागों के बिंदुओं की विस्तृत समीक्षा की। बैठक में अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चैधरी, उप जिलाधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments