Latest News

जिंदा लोग ही हो सकते हैं दुकानदार और खरीदार

होम डिलीवरी की व्यवस्था के निर्देश

बिजनौर, संजय सक्सेना - लाॅकडाउन का मक़सद जिन्दगी रोक देना नहीं है बल्कि जिंदगी को बचाना और बढ़ाना है। ज़िन्दा लोग ही दुकानदार और जिंदा लोग ही खरीदार हो सकते हैं, इसलिए कोरोना वायरस से बचाव एवं संक्रमण पर नियंत्रण के लिए सोशल डिस्टेसिंग, मास्क का प्रयोग और हाथों को कीटाणुमुक्त रखने के लिए सेनेटाइजेशन या साबुन का प्रयोग नितांत आवश्यक है। यह विचार व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी रमाकांत पांडेय ने सभी दुकानदारों को निर्देश दिए कि यथा सम्भव होम डिलीवरी की व्यवस्था सुनिश्चित करें और अपने ग्राहकों को भी होम डिलीवरी के लिए प्रेरित करें ताकि दुकानों एवं बाजारों में अनावश्यक रूप से भीड़ न हो पाए। सचेत करते हुए कहा कि यदि दुकानदारों द्वारा विशेष सावधानी न बरती गई तो हो सकता है वे धन के साथ-साथ कोरोना वायरस भी अपने साथ लेकर घर में प्रवेश करें।
जिलाधिकारी रमाकांत पांडे विकास भवन सभागार में आयोजित जिले के विभिन्न व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारियों के साथ लॉकडाउन के दौरान दुकान खोले जाने की सुविधा को शासन द्वारा निर्धारित निर्देशों के अतंर्गत सुव्यवस्थित रुप से संचालित कराने के उद्देश्य से आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिशा निर्देश दे रहे थे। सभी व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारियों द्वारा आश्वस्त किया गया कि जिला प्रशासन द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराते हुए जिला प्रशासन के साथ हर संभव सहयोग प्रदान किया जाएगा।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक संजीव त्यागी, मुख्य विकास अधिकारी कामता प्रसाद सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनोद कुमार गौड़, न्यायिक डॉ नितिन मदान, एसपीआरए सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी तथा जिले के विभिन्न शहरों से आए व्यापारिक प्रतिष्ठानों के पदाधिकारी मौजूद थे।

2 comments: