Latest News

45 डिग्री पारा पहुंचने से इंसान हुआ बेहाल

फतेहपुर, शमशाद खान । शुक्रवार को सूरज से निकल रही किरणों के कारण सभी इंसान बेहाल दिखाई दिये। दिन भर गर्म हवाओं के थपेड़े भी चलते रहे। जिससे आवाम कराह उठी। सूरज की गर्मी बढती ही जा रही है। गर्मी के तेवर देख लोग सहम उठे। कोरोना वायरस के दौरान चल रहे लाकडाउन व पड़ रही भीषण गर्मी के चलते लोग जरूरी काम होने पर ही बाहर निकल रहे है। पारा अपने अधिकतम सीमा 45 डिग्री पहुंच गया। भीषण गर्मी के प्रकोप से पशु-पक्षी भी बेहाल है। जहां कहीं पानी दिखाई देता है गोते लगाना शुरू कर देते हैं। 
गर्मी के बीच ठण्डे पानी का लुत्फ उठाता युवक।
भीषण गर्मी से जनजीवन त्राहि-त्राहि कर रहा है। लोगों को उम्मीद है कि आगामी दस जून से मानसून की बौछारे जनसमुदाय को राहत दिला सकती है। भीषण गर्मी के चलते विद्युत व्यवस्था भी पूर्णरूप से चरमरा गयी है। नये सेड्यूल के अनुसार विद्युत की आवाजाही गर्मी को और बढा रही है। जिससे जनसमुदाय का रात को सोना भी दूभर हो गया है। वहीं ठंडे पानी के लिए लोग फ्रिज को छोड़ बर्फ पर आश्रित हो रहे है। लाकडाउन के चलते बाजार में रौनक नहीं है। किसान पानी की कमी को लेकर चिंता में है। गांव-गांव में जलस्तर घटता जा रहा है। मवेशियों के लिए पानी की कमी बढती जा रही है। नहरों में पानी न आने से भी किसानों में नाराजगी व्याप्त है। ग्रामीण क्षेत्रो में स्थापित राजकीय नलकूप अधिकतर तो खराब पड़े है या बंद है। मनरेगा के तहत गांव-गांव में खोदे गये तालाबों में भी धूल उड़ रही है। ग्रामीणो को हैण्डपम्प एवं कुंओं का ही सहारा बचा है। वहीं शहरी क्षेत्र में भी जलापूर्ति को लेकर दुश्वारियां पैदा है। विद्युत की आपूर्ति में बाधा के चलते जलापूर्ति प्रभावित हुई है। जिला प्रशासन द्वारा जलापूर्ति को लेकर ग्रामीण सहित शहरी क्षेत्रों में प्रबंध तो किये गये है। लेकिन वह भी हवा हवाई साबित हो रहे है।

No comments