Latest News

सदगुरु ट्रस्ट लॉकडाउन 4.0 में भी लगातार कर रहा है अन्नसेवा

लॉकडाउन में 80 हजार से अधिक लोगों तक पहुँचाया भोजन, 31 मई तक जारी रहेगा अन्नक्षेत्र

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि  - भगवान श्री राम की तपोभूमि धर्मनगरी चित्रकूट में विश्वभर में फ़ैल रहे कोरोना संक्रमण के बचाव हेतु जारी लॉकडाउन के बीच संत श्री रणछोड़दास जी महाराज द्वारा जानकीकुण्ड में स्थापित श्री सदगुरु सेवा संघ ट्रस्ट ने सेवा की एक नयी मिसाल रच दी | महाराज जी के पावन उद्देश्य “भूखे को भोजन” देने के संकल्प को चरितार्थ करते हुए शासन द्वारा घोषित 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन के विगत तीनों चरणों में प्रतिदिन अंचल में रह रहे ,गरीब,वंचित एवं भोजन की कमी से जूझ रहे परिवारों तक प्रतिदिन दो हजार भोजन पैकेट के साथ गुरुदेव के प्रसाद स्वरुप सुखडी के भी पैकेट उपलब्ध कराने का कार्य किया है | अभी लॉकडाउन का चौथा चरण चल रहा है एवं अभी तक सदगुरु ट्रस्ट द्वारा 80 हजार से अधिक लोगों तक भोजन पैकेट पहुंचा दिया गया है, जो लॉकडाउन 4.0 के साथ आगामी 31 मई 2020 तक जारी रहेगा | सदगुरु ट्रस्ट के साथ यह पुनीत कार्य में जिला प्रशासन कलेक्टर सतना- श्री अजय कटेसरिया के निर्देशन में स्थानीय प्रशासन हेमकरण धुर्वे स.डी.एम मझगवां, गणेश दश भर्तार तहसीलदार, रमाकांत शुक्ला सी.एम.ओ. नगर परिषद चित्रकूट एवं उनकी टीम के सहयोग से निरंतर चल रहा है | वितरित किये जा रहे भोजन के पैकेट से स्थानीय जरुरतमंदों के साथ सुदूर महाराष्ट्र, गुजरात के महानगरों से पैदल चलकर अपने गंतव्य तक जाने वाले प्रवासी मजदूर भाई-बहनों को भी दिया जा रहा है | चित्रकूट में मध्य प्रदेश एवं उत्तरप्रदेश दोनों राज्यों की सीमा लगने के कारण दोनों और से आने वाले प्रवासी मजदूरों को भोजन पैकेट मुहैय्या कराये जा रहे हैं |
इसी के साथ ट्रस्ट द्वारा संचालित श्री रघुवीर मंदिर (बड़ी गुफा) द्वारा चित्रकूट के जंगलों एवं आश्रमों में साधनारत साधु-संतों को मासिक राशन, एवं कोरोना से बचाव हेतु मास्क दिया जा रहा है, जिससे उनकी तपस्या एवं साधना अबाधित हो, एवं प्रतिदिन मंदिर के परिसर में एक सैकड़ा से अधिक साधु-संतों एवं अभ्यागतों को प्रतिदिन भोजन-प्रसाद लॉकडाउन के प्रारंभ से ही प्रदान किया जा रहा है | जब इस संकटकाल में मनुष्य को ग्रामीण अंचल में भोजन सुलभ नहीं हो रहा तो मूक पशुओं के लिए भी भोजन मिलना कठिन है,ऐसे समय में प्रतिदिन संस्था द्वारा बंदरों के लिए चना और गौमाता हेतु चारे और पानी की भी व्यवस्था की गयी है, साथ ही ग्रीष्म ऋतु के बढ़ते प्रकोप के कारण सदगुरु गौ सेवा केंद्र में अतिरिक्त शेड एवं और अधिक गायों के लिए चारे पानी की व्यवस्था की जा रही है जिससे अधिक से अदिक संख में गौ-वंश की सेवा की जा सके |     
संस्था के सदगुरु नेत्र चिकित्सालय द्वारा इससे पूर्व सतना एवं चित्रकूट दोनों ही जिले के कोरोना वारियर्स के उपयोग हेतु दो हजार मेडिकल किट दोनों जिलाधिकारियों के माध्यम से पहुंचाई गई थी | इसी के साथ दोनों जिलों के पत्रकार मंडल एवं स्थानीय चित्रकूट नगर परिषद एवं थाना नयागाँव के पुलिस बल को भी किट उपलब्ध करायी थी | सदगुरु नेत्र चिकित्सालय एवं जानकीकुंड चिकित्सालय के कुशल चिकित्सकों एवं मेडिकल की टीम भी इस संकटकाल में सभी प्रकार के आपातकालीन चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए रोगियों का उपचार कर रही है एवं इस कोरोना के बीच भी सेवा का कार्य सम्पादित कर रही है | आने वाले सभी रोगियों की थर्मल स्क्रीनिंग,एवं सैनीटाईजेशन के बाद उन्हें चिकित्सा हेतु सोशल डिसटेंसिंग के साथ अन्दर प्रवेश दिया जाता है, जिससे उन्हें इस आपत्तिकाल में उपचार हेतु अन्य नगरों की और ना जाना पड़े |
ट्रस्ट द्वारा संचालित समस्त शैक्षणिक संस्थानों में उनके विद्यार्थियों के लिए इस संकट काल में आनलाइन शिक्षण एवं लाइव कक्षाओं का सञ्चालन किया जा रहा है, जिससे विद्यार्थियों को उनके घर में रहकर शिक्षण का अवसर मिल रहा है | ट्रस्ट के विभिन्न प्रकल्पों में सोशल डिसटेंसिंग,सैनिटाईजेशन,मास्क के प्रयोग के साथ संक्रमण से बचाव हेतु एक जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसके तहत विशेषज्ञों के निर्देशन में सोशल मिडिया एवं युट्यूब वीडियों के माध्यम से जन-जागरूकता का प्रयास किया जा रहा है | चिकित्सकों द्वारा लोगों तक निर्देश एवं परामर्श पहुंचाए जा रहे हैं, जिससे लोग इस अवांछित संक्रमण से बच सकें | कई जगहों पर बैनर एवं लाउड़स्पीकर द्वारा भी जानकारी लोगों तक पहुंचाई जा रही है |   
ट्रस्टी डॉ.बी,के जैन ने बतलाया कि, हमारे ट्रस्ट के सभी प्रकल्प सेवा कार्य से जुड़े हैं एवं ऐसी महामारी के समय हमारा उत्तरदायित्व और अधिक बढ़ जाता है | हम अपने चिकित्सकीय,शैक्षणिक एवं अन्य संचालित सभी प्रकल्पों के माध्यम से शासन द्वारा जारी निर्देशों के पालन के साथ अधिक से अधिक सहायता लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं ,एवं इस कार्य में हमारे ट्रस्ट के हजारों कार्यकर्ता दिन-रात सेवार्थ तत्पर एवं संकल्पबद्ध हैं | आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत जुड़ते हुए संस्थान के अन्दर ही  चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल व नर्सिंग स्टाफ के उपयोग हेतु पी.पी.ई. किट एवं मास्क का उत्पादन पर विशेष बल दिया जा रहा है, एवं हमारा चिकित्सकीय स्टाफ हमारे द्वारा बनाये गए किट का ही उपयोग कर रहे हैं | उन्होंने कहा कि, हम सभी नगरवासियों से अनुरोध करते हैं कि, शासन-प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों के साथ सैनीटाईजेशन,मास्क,सोशल डिस्टेनसिंग (एस.एम.एस.) का पालन करसे से हम सभी इस महामारी से अपना एवं दूसरों का रक्षण करने में सफल होंगें |

1 comment: