Latest News

शनि जयन्ती 22 मई

ज्येष्ठ माह की अमावस्या को शनि जयन्ती के रूप में मनाया जाता है।  इस बार शनि जयन्ती 22 मई को है।  इस बार अपने घरों में ही बैठकर शनि स्त्रोत का पाठ करना होगा.   इस वर्ष लॉकडाउन के कारण अधिकतर मंदिर बंद है. सूर्य पुत्र भगवान शनि न्याय के देवता है इस दिन शनि पूजन व्रत और शनि की वस्तुओं के दान और शनि के मंत्र जैसे ‘‘ऊँ शं शनैश्चराय नमः’’।  ‘‘प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः’’ के जाप से शनि प्रसन्न होते है।  शनि सौर मण्डल में पृथ्वी से सबसे दूर और धीमी गति का ग्रह है। शनि पश्चिम दिशा का स्वामी और इसे ज्योतिष में न्यायधीश कहा गया है। शनि प्रत्येक प्राणी को उसके कर्माे के
अनुसार दण्ड देते है। जिन व्यक्तियों की कुडंली में शनि अशुभ स्थिति में हो या पीड़ित हो,तो उन्हें  शनि को प्रसन्न करने के लिये पीपल के वृक्ष की पूजा, पीपल के नीचे  सरसों के तेल का तेल का दिया जलाना दीन-दुःखियों, गरीबों और मजदूरों की सेवा और सहायता,  काली गाय , काला कुत्ता , कौवे की सेवा करने से, सरसों का तेल ,  कच्चा कोयला, लोहे के बर्तन , काला वस्त्र , काला छाता, काले तिल , काली उड़द आदि के दान करने से शनि शुभफल देते है। भगवान शिव और हनुमान जी की उपासना से भी शनि कष्ट नहीं देते है- 

- ज्योतिषाचार्य-एस.एस.नागपाल, स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज, लखनऊ

2 comments:

  1. अभी @k, Ramdash's स्टेटस वीडियो देखें!😁

    भारत में UVideo-💯 सबसे अच्छा स्टेटस भारत में 🇮🇳। डाउनलोड करें, अन्वेषण करें और अधिक स्थिति साझा करें! यह मुफ़्त पाने के लिए क्लिक करें⬇️
    👉http://s.uvideo.in/c3cYW3ci

    ReplyDelete