Latest News

#Corona : कोरोना वायरस को गंभीरता से समझे देश के नागरिक.........

देवेश प्रताप सिंह राठौर 
(वरिष्ठ पत्रकार )

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है। कोरोना वायरस बहुत सूक्ष्म लेकिन प्रभावी वायरस है। कोरोना वायरस मानव के बाल की तुलना में 900 गुना छोटा है, लेकिन कोरोना का संक्रमण दुनियाभर में तेजी से फ़ैल रहा है।कोरोना वायरस (सीओवी) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था। डब्लूएचओ के मुताबिक बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है।इसके संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। यह वायरस दिसंबर में सबसे पहले चीन में पकड़ में आया था। इसके दूसरे देशों में पहुंच जाने की आशंका जताई जा रही है।कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं। कोरोना वायरस अब चीन में उतनी तीव्र गति से नहीं फ़ैल रहा है जितना दुनिया के अन्य देशों में फैल रहा है। कोविड 19 नाम का यह वायरस अब तक 200 से ज़्यादा देशों में फैल चुका है। कोरोना के संक्रमण के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके। आज भारत देश में लॉक डाउन के
समय संख्याएं कोरोना वायरस की अन्य देशों की अपेक्षा नहीं बढ़ी है अगर तबलीगी जमात ई लोग यह सब गंदी हरकतें नहीं करते तो भारत आज कोरोनावायरस से 21 दिन के लॉक डाउन में बहुत ही नियंत्रण हो गया होता और पूरा देश पुरोला वायरस से बच जाता इन तबलीगी जमात इयों ने इतना अधिक घिनौना कार्य किया है जिसे माफ करने की जरूरत नहीं है जब पूरा विश्व कोरोनावायरस से जूझ रहा है तबलीगी जमात ने देश को कठिन समस्या में डाल दिया है आज तबलीगी जमा का मुखिया लापता है भारत सरकार को तबलीगी जमात ई ओ की पूरी तरह जांच पड़ताल करनी चाहिए क्योंकि इनके जो कार्य कार्य करने की शैली है वह देश हित में कहीं से नजर नहीं आ रही यह आतंकवादियों का देश पाकिस्तान से इनकी सांठगांठ जरूर इनके कारनामों से संदेह उत्पन्न होता है अतः इन पर जांच कराते हुए कठोर से कठोर सजा मिले तथा जो भी राष्ट्रद्रोह के हिसाब से इन्हें समझा जाए। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत की तारीफ की कहां अगर भारत में लॉक डाउन न हुआ होता तोआज भारत में कोरोना वायरस के लगभग 10 या 12 लाख कोरोना वायरस के संक्रमित लोग पाए जाते तथा भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की खुलकर तारीफ की कहां भारत ने आर्थिक साज सज्जा को ध्यान ना देते हुए उन्होंने अपने मानव की रक्षा के लिए जीवन के लिए जो लॉक डाउन किया वह देश के लिए बहुत ही हितकर है लेकिन इस देश की जनता कानून तोड़ने में अपना गर्व समझती है। और बातों को गंभीरता से ना लेते हुए जाति धर्म के आधार पर कार्य करना शुरू कर देते हैं जिस कारण देश में परेशानियां बढ़ती है। अभी भारत में आज की स्थिति को देखते हुए लॉक डाउन बढ़ाना चाहिए क्योंकि बिना शक्ति से भारत की जनता सुनती नहीं है शक्ति के साथ लॉक डाउन का पूर्ण रुप से पालन हो तभी हम कोरोना वायरस जैसी महामारी से देश से भगा देंगे।

No comments