Latest News

जागेश्वर धाम में गिरी आकाशीय बिजली, कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त

भोर पहर बारिश के दौरान हुआ हादसा 
  
फतेहपुर, शमशाद खान । असोथर विकास खण्ड के अति प्रसिद्ध जागेश्वर धाम मंदिर में शनिवार की भोर पहर बारिश के बीच तेज आवाज के साथ आकाशीय बिजली गिर जाने से मंदिर का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। बारिश रूकने के बाद ग्रामीण मंदिर पहुंचे और यह नजारा देखकर हतप्रभ रह गये। 
जानकारी के अनुसार जागेश्वर धाम मंदिर करीब ढाई सौ साल पुराना है। यह मंदिर जिला मुख्यालय से लगभग 20 किलोमीटर दूर असोथर-गाजीपुर मार्ग पर झब्बापुर गांव के पास स्थित है।
जागेश्वर धाम मंदिर का गुम्बद।
गोधरामऊ गांव के शिवपूजन चैरसिया ने कई दशक पहले मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था। पुजारी रामेश्वर गोस्वामी ने बताया कि वह मंदिर के ही एक हिस्से में आराम कर रहे थे। सुबह पहले बूंदाबांदी शुरू हुई। अचानक गरज-चमक के साथ तेज आवाज से वह सहम गए। बारिश रुकने के बाद जब देखा तो मंदिर में शिवलिंग के अरघा का फर्श व शीशा टूटा पड़ा था। मंदिर के गुंबद के पास पांच से छह फीट तक दरार आ गई है। उन्होने बताया कि यह मंदिर अत्यंत प्राचीन है। यहां पर प्रतिवर्ष शिवरात्रि से पन्द्रह दिनों का मेला लगता है। जिसमें दूर दराज से व्यापारी आते हैं। ये मेला शिवरात्रि से शुभारम्भ होकर होलिका दहन के दिन तक लगता है। मेले में हजारों की भीड़ में शिवभक्त आते हैं। 

No comments