Latest News

आतंकवाद और कोरोनावायरस.......................... देवेश प्रताप सिंह राठौर (वरिष्ठ पत्रकार)

......................... आज पूरा विश्व कोरोना वायरस से लड़ रहा है वहीं पर पाकिस्तान कोरोना वायरस  आतंकवादियों को भारत में आतंकवाद फैलाने में लगा हुआ है।आतंकवादी कहे जाने वाले प्रशिक्षित लोगों के समूह के द्वारा अन्यायपूर्ण और हिंसात्मक गतिविधियों को अंजाम देने की प्रक्रिया को आतंकवाद कहते हैं। वहाँ केवल एक मालिक होता है जो समूह को किसी भी खास कार्य को किसी भी तरीके से करने का सख्त आदेश देता है। अपने अन्यायी विचारों की पूर्ति के लिये उन्हें पैसा, ताकत और प्रचार की जरुरत होती है। ऐसी परिस्थिति में, ये मीडिया होती है जो किसी भी राष्ट्र के समाज में आतंकवाद के बारे में खबर फैलाने में वास्तव में मदद करती है। अपने उद्देश्य और लक्ष्य के अनुसार विभिन्न आतंकी समूह का नाम पड़ता है। तथा आतंकवाद की क्रिया मानव जाति को बड़े पैमाने पर प्रभावित करती है और लोगों को इतना डरा देती है कि लोग अपने घरों से बाहर निकलने में डरते हैं। वो सोचते हैं कि आतंक हर जगह है जैसे घर के बाहर रेलवे स्टेशन, मंदिर, सामाजिक कार्यक्रमों, राष्ट्रीय कार्यक्रमों आदि में जाने से घबराते हैं। लोगों के दिमाग पर राज करने के साथ ही अपने कुकृत्यों कों प्रचारित और प्रसारित करने के लिये अधिक जनसंख्या के खास क्षेत्रों के तहत आतंकवादी अपने आतंक को फैलाना चाहते हैं। आतंकवाद के कुछ हालिया उदाहरण अमेरिका का 9/11 और भारत का 26/11 हमला है। इसने इंसानों के साथ ही बड़े पैमाने पर देश की अर्थव्यवस्था को भी चोट पहुँचायी है।राष्ट्र से आतंकवाद और आतंक के प्रभाव को खत्म करने के लिये, सरकार के आदेश पर कड़ी सुरक्षा का प्रबंध किया गया है। वो सभी जगह जो किसी भी वजह से भीड़-भाड़ वाली जगह होती या बन जाती है जैसे सामाजिक कार्यक्रम, राष्ट्रीय कार्यक्रम जैसे गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस, मंदिर आदि को मजबूत सुरक्षा घेरे में रखा जाता है। सभी को सुरक्षा नियमों का पालन करता पड़ता है और ऑटोमैटिक बॉडी स्कैनर मशीन से गुजरना पड़ता है। इस तरह के उपकरणों का इस्तेमाल करने के द्वारा सुरक्षा कर्मियों को आतंकवादी की मौजूदगी का पता लगाने में मदद मिलती है। इस तरह की कड़ी सुरक्षा प्रबंधन के बाद भी हम लोग अभी-भी आतंकवाद का खिलाफ प्रभावशाली रुप से नहीं खड़े हो पा रहें हैं।आतंकी समूह को खत्म करने के साथ ही आतंक के खिलाफ लड़ने के लिये हर साल हमारा देश ढ़ेर सारे पैसे खर्च करता है। हालाँकि, ये अभी-भी एक बीमारी की तरह बढ़ रही है क्योंकि रोजाना नये आतंकवादी तैयार हो रहें हैं। वो हमारी तरह ही बहुत सामान्य लोग हैं लेकिन उन्हें अन्याय करने के लिये तैयार किया जाता है और अपने एक समाज, परिवार और देश के खिलाफ लड़ने के लिये दबाव बनाया जाता है। वो इस तरह से प्रशिक्षित होते हैं कि उन्हें अपने जीवन से भी प्यार नहीं होता, वो लड़ते समय हमेशा अपना कुर्बान होने के लिये तैयार रहते हैं। एक भारतीय नागरिक के रुप में, आतंकवाद को रोकने के लिये हम सभी पूरी तरह से जिम्मेदार हैं और ये तभी रुकेगा जब हम कुछ बुरे और परेशान लोगों की लालच भरी बातों में कभी नहीं आयेंगे। आज पूरा भारत अभी तक पाकिस्तान की तरफ से आतंकवादी गतिविधियां करता रहता है इस समय जहांंंं पर पूरा वि कोरोना वायरस जैसी महामारी से लड़ रहा है वहीं पर पाकिस्तान भारत के विरुद्ध कोरोना वायरस आतंकवादी भेजनेे काराा कार्य कर रहाा है। वैसे लॉक डाउन पार्ट 2 जो चल रहाा है। सभी लोग गंभीरता से अपने घरों पर पूर्ण रूप सेेेेे लॉक डाउन का पालन  करें तो जल्द हीी इससेे हम सब इस कोरोनावायरस से देश से भगा देंगे लेकिन आज बहुुत ही ही सतर्क रहनेे की जरूरत है पाकिस्तान आतंकवादियोंं के कोरोना वायरस के माध्यम से भारत को क्षति पहुंचाने का कार्य करेगा पूरा जम्मू कश्मीर पर सतर्कता बहुत ही पैनी निगाहों से रखनीी होग क्योंकि आतंकवाद का धर्म  और जात नहीं होताा है उसे तो सिर्फ इतना भारत को नुकसान पहुंचाए वह तो मरने मारने के लिए ही पाकिस्तानी आतंकवादी तैयार करके भारत को नुकसान हेतु भेजता रहता है। आज बहुत से लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं तथा इस गंभीरता जो इस समय देश की स्थित है उससे यहां के मानव को समझ लेना चाहिए कि आज सब कुछ बंद है यह कोई छोटी बात नहीं है गंभीर विषय है तभी आज सब कुछ भारत में रुक गया है लेकिन यहां का मानव पुरानी पद्धति में सोशल डिस्टेंस ना बनाते हुए और पूर्ण पालन ना करते हुए आज भी सरकार के निर्देशों का पालन नहीं कर रहा है आज हम सब लोग तथा देश पूर्ण बंद है तथा आर्थिक प्रतिदिन खरबों के हिसाब से नुकसान हो रहा है परंतु हमारे देश के प्रधानमंत्री जी श्री नरेंद्र मोदी जी ने कहां है जान है तो जहान है इसलिए उन्होंने जान की कीमत को समझा लोगों को बचाने के लिए समय से लॉक डाउन किया परंतु कुछ गंदे लोग गंदी मानसिकता के इसे कह सकते हैं जैसे तबलीगी जमात भेजो कार्य किए उसे स्पष्ट होता है कि यह देश विरोधी गतिविधियों से पूर्ण रूप से पाकिस्तान के समर्थक हैं क्योंकि जब पूरा देश लॉक डाउन पर चल रहा था उसमें तबलीगी जमात हजारों की संख्या में दिल्ली में एकत्रित थे जो धर्म के प्रचार के लिए उनका आका उन्हें भेज रहा था कोरोनावायरस के साथ इन सब पर प्रतिबंध लगे क्योंकि इनकी कार्यशैली देशहित के लिए नहीं होती है पाकिस्तानी सोच के साथ यह हिंदुस्तान में रहकर हिंदुस्तान का ही नुकसान करने में कतई कुताई नहीं करते हैं। आज हिंदुस्तान में यह लोग इस तरह कार्य कर रहे हैं तबलीगी जमात ई आप सोच लीजिए आने वाले समय में यहां पर पूर्व शासन इन्हीं लोगों का होगा क्योंकि इस देश में जय चंद्र बहुत हैं पृथ्वीराज कम है देश को समझना चाहिए जब ओवैसी हैदराबाद का सांसद बोलता है उस भाषा को समझें यह जब कभी देश में बहुमत में आ गए जो हाल पाकिस्तान में हिंदू सिख इसाई जैन बौद्ध आज का जो लोग व्यवहार पाकिस्तान करता है वही हाल हिंदुस्तान में होने लगेगा क्योंकि जब तक इस देश का रहने वाला पाकिस्तान की सोच मन में रखकर कार्य करेगा भारत में उसे सह दी जाएगी तो वह एक न एक दिन भारत के लिए घातक होंगे इस पर सरकार को सोचना चाहिए कि भारत में रहने वाला व्यक्ति भारतीय एवं राष्ट्रभक्त होना चाहिए पाकिस्तान की भाषा बोलने वाला व्यक्ति हिंदुस्तान में रहने का अधिकार नहीं है और से कठोर से कठोर दंड मिलना चाहिए यह व्यवस्था है जब तक नहीं होगी इस देश का रहने वाला हर नागरिक भारतीय हैं परंतु जो लोग धर्म के नाम से अपने को पाकिस्तान के हितेषी हैं उन्हें तुरंत पाकिस्तान भेज देना चाहिए नहीं यह हिंदुस्तान को गलत धारणाओं से आतंकवादी से देश के अंदर आतंक फैलाते रहेंगे और पाकिस्तानी आतंकी आकाओं को मदद करते रहेंगे। इस पर सरकार विशेष ध्यान दें क्योंकि देश बाहरी दुश्मनों से लड़ने में सक्षम है जो घर के अंदर है जो भारत विरोधी यह हैं जो पाकिस्तान के इशारे पर कार्य करते हैं उनसे भारत को कैसे बचाया जाए यह एक कठिन समस्या है इस पर सरकार को शक्ति के साथ कार्य करने की जरूरत है। भारत का रहने वाला भारत में रहकर कहें कि हम 15 करोड़ 100 करोड़ पर भारी है और यह 24 घंटे के लिए पुलिस को हटा दो तो हम बता दें 100 करोड़ों लोगों को यह बात ओवैसी बंधुओं की है जब यह इस तरह बोलते हैं आप समझ लीजिए इनके मन में क्या चल रहा है यह आज एक है तब इस तरह की भाषा शैली बोल रहे हैं जब कभी यह 275 सांसद देश में इनके हो जाएंगे तब आप समझ लीजिए तब भारत का क्या होगा इस को ध्यान में रखते हुए सरकारें ध्यान दें और देशद्रोही राजद्रोही को कतई माफ ना करें उन्हें सख्त से सख्त देश विरोधी गतिविधियों से लिप्त होने की जो सजा कानून द्वारा तय हो उसे मिलनी चाहिए। मैं किसी जाति धर्म का विरोधी नहीं हूं लेकिन जब देश के विरुद्ध इस देश में रहने वाले देश के साथ गद्दारी करते हैं उन पर मेरा उद्देश होता है इस सरकार तक अपनी बात रखें जिससे देश में जयचंद ना हो और भारत देश एक मजबूत विशाल महाशक्ति के रूप में विश्व के पटल पर खड़ा होकर चीन से भी अधिक शक्तिशाली है भारत बन सके इसके लिए देश के अंदर गद्दारों को दूर करने की जरूरत है। आज कोरोना वायरस की लड़ाई में पूरा तंत्र लगा हुआ है देश थम गया है वहां पर हमारे वीर योद्धा हमारी पुलिस हमारे सुरक्षाकर्मी हमारे डॉक्टर हमारी नर्सिंग हमारे सफाई कर्मी सब इस देश की सेवा में रात-दिन एक किए हुए हैं हमें उन्हें हृदय से धन्यवाद देना चाहिए प्रणाम करना चाहिए जो अपने परिवार बच्चों को छोड़कर आज कोरोना वायरस मरीजों इलाज कर रहे हैं।

No comments