Latest News

कोरोनावायरस :- ऐसे लॉकडाउन से क्या फायदा, इससे अच्छा है की छूट ही दे दें

ये तस्वीर मंगवार सुबह लॉकडाउन में नयागंज बाजार की है। यही हालात कलक्टरगंज, कर्रही, बिरहाना रोड, शिवाला, गुजैनी और दबौली के रहे। बाजारों में उमड़ी खरीदारों की भीड़ से जाम की स्थिति बनी थी। भीड़ को देख लगा, जब लॉकडाउन का पालन ही नहीं होना तो लागू करने से फायदा ही क्या। इससे तो अच्छा छूट ही दे देनी चाहिए।
आमजा भारत कर्यालय सवांददाता:- कानपुर के बाजारों में मंगलवार को सुबह से ही लोग वाहनों से सामान खरीदने निकल पड़े। ऐसा लगा जैसे छूट दे दी गई हो। कारों,स्कूटर, बाइक से भी लोग सामान लेने आए। नयागंज किराना बाजार, कलक्टरगंज, लालबंगला, स्वरूप नगर में काफी संख्या में वाहन दौड़ने लगे । लगभग 9 बजे भीड़ होने पर पुलिस को लाठी पटक कर खदेड़ना पड़ा । नयागंज में पुलिस ने घेरा बनाकर कार और बाइक रोकी। कई रास्तों पर 10 बजे के बाद पुलिस सक्रिय हुई। पुलिस की सख्ती के बाद दोपहर 12 बजे सड़कों पर सन्नाटा छा गया। शहर में होम डिलीवरी की कड़ी टूटी हुई है। थोक दुकानदार फुटकर बाजार में माल नहीं भेज पा रहे हैं। नयागंज के थोक व्यापारी अशोक गुप्ता का कहना है कि कर्मचारी नहीं हैं। लोडर नहीं मिल रहे हैं। इससे सप्लाई नहीं हो पा रही है। आसपास के ग्रामीण इलाकों तक से फुटकर दुकानदार खरीदारी को आ रहे हैं। यही वजह है कि रोज सुबह 6:00 बजे से ही बाजारों में भीड़ हो जाती है। 10:00 बजे के बाद धीरे-धीरे लोग घरों में कैद हो जाते हैं।

रात 12 बजे लग रही चकरपुर थोक सब्जी मंडी
चकरपुर सब्जी मंडी रात में ही लग रही है। रात 12 बजे से मंडी लग जाती है। फुटकर सब्जी विक्रेता ने बताया कि सुबह 4:00 बजे तक दुकानदार माल लेकर आ जाते हैं। सुबह 7 बजे तक थोक मंडी में सन्नाटा हो जाता है। चकरपुर मंडी के थोक विक्रेता हरिशंकर ने बताया कि कई फुटकर व्यापारी मिलकर एक ही लोडर से माल ले जाते हैं। रात में माल फुटकर दुकानदार इसलिए ले जा रहे हैं। उन्हें सुबह खुद चार घंटे में माल बेचना होता है।

No comments