Latest News

मौसमी फलों के पेय पदार्थों से बढ़ाये रोग प्रतिरोधक क्षमता - डॉ फूलकुमारी

वैज्ञानिक ; गृह विज्ञान

हमीरपुर, महेश अवस्थी - कृषि विज्ञान केंद्रए कुरारा, आज कल हमारे किसान भाई अनाज की कटाईए मड़ाई में दिन रात कड़ी मेहनत कर रहे हैं और विश्व कोरोना महामारी के दौर से गुजर रहा हैए यह चिंतन का विषय है ऐसे में हमें शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने की जरुरत है।यदि हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है तो किसी भी बीमारी का खतरा नही रहता है ।मौसमी फल सब्जियां न केवल खनिज तत्वों से भरपूर होती हैंए बल्कि इनमें मौसम की प्रतिकूलताओं से लडने की क्षमता होती है। इनमे भरपूर मात्रा में विटामिन । ए ठ
और खनिज,  लवण, आयरन, कैल्सियम और फास्फोरस, एंटीऑक्सीडेंट और फाइटो कैमिकल्स पांए जाते है, जो शरीर को रोगों से बचाव के लिए आवश्यक ऊर्जा प्रदान करते हैंद्यफल एवं सब्जियों को छोड़कर किसी भी खाद्य पदार्थ में इनकी प्रयाप्त मात्रा नहीं पाई जाती है। पाचन क्रिया को ठीक तथा स्वास्थ्य की रक्षा के लिए घर में निर्मित फलों के पेय का सेवन करें जैसे आम का पनाए नीबू शरवतए बेल का शरवतए गन्ने का रस एवं शरवत आदि । किसान भाई  बहनें सुबह के समय खेत में जाने से पूर्व गर्म पानी में हल्दी, तुलसी,  नीबू, अदरक या शहद मिलाकर सेवन करे । आज कल उपलब्ध आम  से पना बनाकर दिन में एक बार अवश्य सेवन करे यह आपके शरीर को शीतलता व तरावट देगा और आपको गर्मी व लू से भी बचाएगा। क्यों कि आम में विटामिन ए और विटामिन सी, फाइबर, विटामिन बी 6,  पोटैशियम, मैग्नीशियम कापर जैसे खनिज लवण,  एंटीऑक्सीडेंट और फाइटो कैमिकल्स मौजूद होते हैं । आम का पना पीने से दिन के लिए जरूरी विटामिन का 25% हिस्सा मिल जाता है ।

आम का पना बनाने की विधि :

आवश्यकसामग्री.

कच्चे आम. 300 ग्राम भुना जीरा पाउडर, 2 ग्राम काला नमक स्वादानुसार काली मिर्च, एक चौथाई छोटी चम्मच चीनी 100.150 ग्राम पुदीना 20.30 पत्तियाँ


विधि.
सबसे पहले कच्चे आमों को चूल्हे की राख में दबा कर भून लीजिये,  कच्चे आमों को धोकर उन्हें छील लीजिये और फिर उनकी गुठलियों से गूदे को अलग कर के एक कप पानी में डालकर उबाल लीजिये । अब मिक्सी या सिल में ये उबला हुआ गूदा,   चीनी, काला नमक और पोदीने की पत्तियाँ डालकर अच्छी तरह से पीस लीजिये और फिर इसमें एक लीटर पानी मिलाकर इसे छलनी में छान लीजिये । आम का पना तैयार है । अब इसमें काली मिर्च व भुना हुआ जीरा पाउडर डालकर अच्छे से मिलाइये और पीजिये ।

बेल का शर्बत, 

गर्मियों में बेल का शर्बत शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है । इसमें पाये जाने वाले रेशे पेट को साफ रखने में मदद करते हैं । तेज गर्मी पड़ने पर बेल का शर्बत ही टस्ट्रोक से बचाता है साथ ही यह त्वचा के लिये भी बहुत अच्छा माना जाता है ।

सामग्री 

बेल.1 चीनी. 3 चम्मच, भुना जीरा.1 चम्मच काला नमक. 1 चम्मच नींबू. 1. पानी 2 गिलास

विधि 

एक बडे़ कटोरे या जग में चीनी और नमक को पानी के साथ घोल लें । फिर उस में नींबू मिलाइये । अब चम्मच की सहायता से बेल के गूदे को निकाल कर उसी पानी में अच्छी तरह से घोल दीजिये । अब इस बेल वाले घोल को अच्छी प्रकार से दूसरे बर्तन में छान लीजिये जिससे उसमें बेकार का रेशा ना हो । इन घरेलू पौष्टिक पेय के साथ साथ ताजे संतुलित आहार का सेवन करेंए आहार में मौसमी सब्जियों का सेवन करेंए बासी खान बिलकुल न खाएं एवं  ज्यादा से ज्यादा तरल पेय पदार्थ का सेवन करें।स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिय जरुरी नही कि महगे फल एवं सब्जियों का सेवन करें बल्कि मौसमी फल एवं सब्जियों का संतुलित मात्रा में आहार में शामिल करके शरीर को स्वस्थ्य रख सकते हैं।

No comments