Latest News

राशन की दुकानों पर बायोमेट्रिक मशीन से गरीबों पर मंडरा रहा खतरा

कोंच(जालौन), अजय मिश्रा । सरकार के आदेश पर जरूरतमंदों को निरूशुल्क राशन दिया जा रहा है। लेकिन इसमें राशन बांटने की उसी पुराने सिस्टम वायोमेट्रिक मशीन में अंगूठा लगाने के प्रयोग ने सरकार द्वारा जारी ऐहतियात बरतने के उपायों पर प्रश्न चिन्ह खड़े कर दिए हैं। अंदेशा यह जताया जा रहा कि कहीं यह बायोमेट्रिक मशीन लोगों की जान की दुश्मन न बन जाए। हालांकि राशन की दुकानों पर राशन लेने बालों की लंबी लंबी लाइनें लगी हैं। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है और लोग इत्मीनान से अपनी बारी का इंतजार कर
लाइन लगाकर राशन लेते कार्डधारक
रहे हैं। लेकिन विश्व में फैली कोरोना महामारी के चलते एक दूसरे के संपर्क में नहीं आने की सतर्कता बरतने के बजाए बायोमेट्रिक मशीनों में अंगूठे लगवाए जा रहे हैं। इस प्रक्रिया को अनुचित ठहराने बालों की कमी नहीं है क्योंकि यह जानलेवा साबित हो सकती है। क्योंकि इस लाइन में वे लोग भी लगे हैं। जो बाहर से लौटे हैं और बिना आइसोलेट हुए गांवों में घूम रहे हैं। यह स्थिति संक्रमण को न्यौता देने बाली है। पूर्ति निरीक्षक याकूब हसन का कहना है कि फिलहाल सरकार की ओर से राशन वितरण की किसी वैकल्पिक व्यवस्था के बाबत कोई आदेश निर्देश उन्हें नहीं मिले हैं लिहाजा उनकी मजबूरी है। गौरतलब है कि सरकारी संस्थानों में हाजिरी लेने के लगाई गईं बायोमेट्रिक मशीनें कोरोना महामारी को लेकर हटा दी गई थी।

No comments