Latest News

नफरत के माहौल के बीच नत्थूलाल बीस वर्षों से रख रहे रमजान का रोजा

फतेहपुर, शमशाद खान । देश में बढ़ रही असहिष्णुता व नफरत के माहौल के बीच सामाजिक सौहार्द एवं गंगा यमुनी तहजीब की अनोखी मिसाल देखने को मिल रही है। जिले के नत्थूलाल पिछले बीस सालों से रमजान के पाक महीने में रोजा रखकर हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल को कायम किये हुए हैं। परिवार के अन्य सदस्य भी बीस वर्षों से लगातार जहां रोजा रखते हैं वहीं हनुमान चालीसा का पाठ भी करना नहीं भूलते। 
बताते चलें कि खागा तहसील क्षेत्र के यमुना तटीय गांव कोट के रहने वाले नत्थूलाल रोजा रखने के साथ ही अपने घर मे रोज बजरंग बली की पूजा करना नही भूलते। रोजा रखने वालों में नत्थूलाल अपने परिवार के इकलौते नही हैं बल्कि उनके परिवार में पीढ़ियों से चली आ रही यह परंपरा आज भी कायम है। परिवार से जुड़े दूसरे पुरुष नौकरी और काम के सिलसिले में अन्य प्रांतों में रहते हैं। वहाँ वह लोग रमजान के महीने में रोजा रखना नही भूलते है। रोजा रखने के साथ ही नत्थूलाल के घर मे भगवान की पूजा और हनुमान चालीसा का पाठ रोज होता है। हिन्दू
रोजदार नत्थूलाल।
मुस्लिम एकता की अनूठी मिसाल बने नत्थूलाल का कहना है कि उनके बाबा और परदादा भी रमजान के महीने में रोजा रखते चले आये है और अपने पिता रामनारायण के जीवनकाल से ही उन्होंने रोजा रखना शुरू कर दिया था। रमजान के महीने में रोजा रखने वाले नत्थूलाल की पत्नी फूलकली बताती है कि उनके परिवार में यह परम्परा काफी पहले से चली आ रही है। परिवार के बड़े लोग पीढ़ियों से रोजा रखते चले आये हैं। जिस तरीके से मुस्लिम रोजेदार रोज सवेरे उठकर सहरी करते हंै और शाम को रोजा खोलते हैं उसी तरह नत्थूलाल की दिनचर्या भी पूरे महीने नियमित रहती है। वह रोज सुबह उठकर सहरी करते हैं और शाम को रोजा खोलते हैं। नत्थूलाल के रोजा रखने के बारे में इसी गांव के रहने वाले सितवत अली बताते है कि उनके गांव में हिन्दू व मुसलमान हमेशा साथ रहते आये है। गांव की मुस्लिम बिरादरी भी होली, दीपावली व दशहरा का त्योहार बढ़चढ़ कर मनाती है। गांव में चली आ रही यह परम्परा सैकड़ों सालों से आज भी जस की तस कायम है। राजनीतिक रोटियां सेंकने वाले लोग हर मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश भले ही करते हो लेकिन जिले के कोट गांव के रहने वाले नत्थूलाल और इस गांव में मिलजुल कर रहने की परम्परा आज भी लोगों के लिए नजीर बनी हुई है।

No comments