Latest News

राशन वितरण करने वाले धर्मानुरागी उम्मीदों की आस में बैठे परिवारों के लिये किसी फ़रिश्ते से कम नहीं, आवश्यक सामग्री पाकर जरूरतमंदों के खिले चेहरे .....

नारी शक्ति वुमेन एम्पावर संस्था ने जरूरत मंदों में किया राशन वितरण, कुछ परिवारों को दी नकद राशि में आर्थिक मदद और किया सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर जागरुक

कानपुर महानगर, संवाददाता । (एस. टी.) समूची मानव जाति के अदृश्य दुश्मन बने किलर कोरोना ने आज पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया है। इस खतरनाक वायरस के कारण देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी त्राहि-त्राहि मची हुई है। वैश्विक महामारी घोषित हो चुके इस काल बने कोरोना का विज्ञान में कोई सफल इलाज न होने के कारण इसकी चपेट में आने वाले अधिकतर लोग काल के गाल में समा गये। इससे बचाव सिर्फ इसकी बढ़ती स्पीड को रोक कर ही किया जा सकता है। तभी सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर देश भर में संम्पूर्ण लॉक डाउन घोषित कर दिया गया। लॉक डाउन घोषित होते ही समाज का एक बहुत बड़ा वर्ग तरह -तरह की मुसीबतों से घिर गया। रोज कमाने और खाने जैसी स्थित का सामना करने वाले लाखों परिवार न चाहते हुये भी इस बीच असहाय से हो गये। और जिंदगी सुचारू रूप से चल सके इसके लिये उनकी स्थिति चिंता जनक हो गयी।
ऐसी दशा में जहाँ सरकारें इनकी मदद के लिये प्रयासरत हुईं, वहीँ स्थानीय समाजसेवियों ने आगे बढ़कर मोर्चा संभाल लिया। उम्मीद से ज्यादा मदद को बढ़े जनसेवियों के हाँथों ने हर भूखे का पेट भरने का बीड़ा उठाया और निरंतर भोजन व राशन वितरण चालू कर दिया। इसी कड़ी में सामाजिक संस्था नारी शक्ति वुमेन एम्पावर भी निरंतर जरूरत मंदों की जरूरत पूरी करने के लिये आगे आ गई। लॉक डाउन घोषणा के बाद संस्था अनवरत जनसेवा कर रही है। संस्था पदाधिकारी व सहयोगी शहर के विभिन्न क्षेत्रों को चिन्हित करके सामर्थ्य अनुसार प्रतिदिन अपनी सेवा दे रहे हैं। आज 17 अप्रैल को संस्था ने नवाबगंज मैनावती मार्ग स्थित (द पीक अपार्टमेंट) के सामने क्षेत्रीय मजदूर परिवारों व जरूरतमंदों को राशन सामग्री वितरित की। ये अधिकांश ऐसे परिवार थे जिनके पास न तो राशन कार्ड हैं और न ही कोई सरकारी या गैर सरकारी मदद इन तक पहुँच पा रही थी। संस्था सदस्यों ने क्षेत्र को चिन्हित करते हुये राशन सामग्री के बैग तैयार करवाये थे, जिसमें प्रत्येक बैग में 5 किलो आटा, 2 किलो चावल, 1 किलो दाल, नमक, तेल व मसाले आदि समान की पैकिंग की गई थी। जिसका वितरण किया गया। तथा निवेदन पर कुछ गरीब परिवार के बच्चों के लिये दूध, दवाइयों व अन्य जरूरी चीजों के लिए नकद 2 हजार रुपये तक की आर्थिक मदद भी की गई। इस दौरान राशन के बैग पाकर इन परिवारों के चेहरे पर मुस्कान आ गई। जनसेवा के लिये अचानक पहुँची संस्था की गाड़ियों से उतरे धर्मानुरागी राशन पाये परिवारों के लिये किसी फ़रिश्ते से कम नहीं थे। संस्था की फाउंडर (प्रभारी) कविता चतुर्वेदी ने बताया कि लॉक डाउन के बाद से ही संस्था असमर्थ व जरूरतमंदों की मदद कर रही है। उन्होंने कहा कि संस्था के सभी पदाधिकारी दृढ़ संकल्पित हैं, कि जब तक कोरोना जैसी महामारी से हमारे देश और शहर को छुटकारा नहीं मिल जाता, तब तक हम इसी तरह अपनी सामर्थ्य अनुसार शहर वासी जरूरतमंदों की मदद करते रहेंगे।
इस दौरान संस्था प्रभारी कविता चतुर्वेदी, समाजसेविका प्रभा पांडेय, रेनू वर्मा, नीतू श्रीवास्तव, मोनिका सविता व तनुज पंकज आदि प्रतिनिधि मंडल ने जरूरतमंदों के बीच राशन वितरण में भागीदारी निभायी, साथ ही उपस्थित लोगों को जागरूक करते हुये सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने हेतु जागरूक किया, और बेवजह घर से न निकलने के साथ घर में ही रहने की सलाह दी। 
इस अवसर पर कविता चतुर्वेदी, रेनू वर्मा, मोनिका सविता, तनुज पंकज, प्रभा पांडेय, नीतू श्रीवास्तव व बबलू निषाद आदि लोग उपस्थित रहे व अपना योगदान दिया।

No comments