Latest News

जनपद के सीमावर्ती बरीपाल में कोरोना पाजिटिव मिलने पर प्रशासन एलर्ट

डीएम-एसपी ने चांदपुर थाने में गणमान्य व्यक्तियों के साथ की बैठक 
कोरोना से बचाव के बताये तरीके, उल्लंघन करने वालों पर दर्ज होगी एफआईआर
   
फतेहपुर, शमशाद खान । चांदपुर थाना के संलग्न जनपद कानपुर नगर सीमावर्ती बरीपाल क्षेत्र में कोरोना वायरस का केस पॉजिटिव पाए जाने के बाद जनपद का यह क्षेत्र विशेष रूप से संवेदनशील हो गया है। इसी के दृष्टिगत गुरूवार को एक विशेष बैठक का चांदपुर थाने में आयोजन किया गया। जिसमें जिलाधिकारी संजीव सिंह व पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा समेत तमाम गणमान्य लोगांे ने शिरकत की। 
बैठक को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस के संक्रमण के तरीकों के साथ इससे बचाव के तरीकों सामाजिक दूरी, बार-बार हैंडवाश, चेहरे को ढककर रखने, भीड़ के रूप में एकत्रित न होना आदि को विस्तार से बताया। उन्होंने निर्देशित किया कि ग्राम प्रधान एवं पंचायत/राजस्व कर्मी स्वयं इन उपायों को अपनाते हुए गांव में साफ-सफाई सुनिश्चित करें।
चांदपुर थाने में गणमान्य लोगों की बैठक लेते डीएम-एसपी।
विदेश या अन्य प्रांत/जिलों से आने वाले व्यक्ति समझने के बाबजूद घर पर आइसोलेशन में न रहकर गांव में घूमते है तथा जन स्वास्थ्य को खतरे में डालते है तो उनके विरूद्ध प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराई जाए। जनपद की सीमा में लॉक डाउन का सख्ती से अनुपालन कराया जाए। जनपद की सीमा के पार बरीपाल एवं आस पास के क्षेत्र से लोगो की आवाजाही पूरी तरह से रोकी जाएगी। सभी जरुरतमंद व्यक्तियों तक आवश्यक सहायता तत्काल पहुंचाई जाए। गांव के पूजा स्थलों या अन्य जगहों पर मौजूद पब्लिक एड्रेस सिस्टम या मुनादी से लोगों को लगातार जानकारी दी जाए। स्थानीय सब्जी बाजारों में किसी भी दशा में भीड़ ना एकत्रित हो। इस भ्रामक सूचना का खंडन किया जाता है कि सरकार द्वारा लोगों के बैंक खातों में भेजी गई सहायता राशि वापस चली जाएगी। यह गलत अफवाह है। इसको फैलाने वालों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की जाएगी। सरकार द्वारा प्रेषित धनराशि लाभार्थियों के बैंक खाते में सुरक्षित है।’
बैठक के दौरान बैंको हेतु आवश्यक निर्देश भी दिये गये। जिसमें बताया गया कि अमौली क्षेत्र के बैंक जनपद सीमा के पार कानपुर नगर के लोगों के बैंक खातों से धनराशि नहीं निकलेंगे क्योंकि जनपद की सीमाएं सील होने के कारण लोगों का आना संभव नहीं। केवल निर्धारित प्रक्रिया (पास) से व्यक्तियों को सेवा उपलब्ध रहेगी। इस क्षेत्र में संचालित गुड़ की भट्टियों में मजदूरों को आने जाने की अनुमति नहीं होगी। संचालक की जिम्मेदारी होगी कि मजदूर वहीं रहकर काम करें तथा उन्हें भोजन मिले। ऐसा ना करने वालों के विरुद्ध एफआईआर की जाएगी। 

No comments