Latest News

लॉकडाउन कानपुर:- कोरोना संदिग्ध और मरीजों के संपर्क में आए पुलिसकर्मी नहीं जाएंगे घर

कोरोना महामारी का संक्रमण रोकने के लिए दिन-रात जूझ रहे पुलिसकर्मी को घर से दूर रहना पड़ेगा। ऐसे पुलिस कर्मी जो संदिग्ध या पॉजिटिव कोरोना मरीजों के संपर्क में आ रहे हैं, उनके घर जाने पर पाबंदी रहेगी। उन्हें पुलिस लाइन में ही क्वारंटाइन में बैरक में रखा जाएगा।
आमजा भारत सवांददाता:- आइजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि कोरोना से जंग में वैसे तो पूरा पुलिस बल लगा है, लेकिन ऐसे पुलिसकर्मी भी हैं, जिनकी ड्यूटी पाजिटिव व संदिग्ध कोरोना मरीज के वार्डों में है। इसके अलावा ऐसे पुलिसकर्मी जो संदिग्ध या पॉजिटिव कोरोना मरीजों को पकड़ कर लाए। एहतियात के तौर पर ऐसे पुलिसकर्मियों को चिह्नित किया गया है। इन्हें अब घर नहीं जाने दिया जाएगा, बल्कि पुलिस लाइन में बनाई गई क्वारंटाइन बैरक में 14 दिनों तक उन्हें रख कर इनकी निगरानी की जाएगी। यह इसलिए किया जा रहा है कि ताकि महामारी से पुलिस बल और उनके घर वालों को बचाया जा सके। पुलिस लाइन में 100 बेड का क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। इस बैरक में अन्य किसी के आने-जाने पर पाबंदी होगी।
------------ मंडलायुक्त व आइजी ने हॉट स्पॉट क्षेत्रों में परखी व्यवस्था
मंडलायुक्त सुधीर एम बोबडे और आइजी मोहित अग्रवाल ने शुक्रवार को शहर के हॉट स्पॉट क्षेत्रों का निरीक्षण किया। उन्होंने चमनगंज, अनवरगंज, कुली बाजार, बादशाहीनाका, कर्नलगंज, यतीमखाना, बेकनगंज नई सड़क आदि क्षेत्रों में इंतजाम परखे। उन्होंने इन क्षेत्रों में आम लोगों से दूध, फल, सब्जी और खाद्य पदार्थो की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली। आइजी ने बताया कि हॉट स्पॉट क्षेत्रों में सैनिटाइजेशन का काम तेजी से हो रहा है। ड्रोन कैमरों से क्षेत्रों की निगरानी की जा रही है। पुलिसकर्मियों से कहा कि वह किसी भी घर में पूरे सुरक्षा उपकरण पहनने के बाद ही प्रवेश करें। आइजी के मुताबिक विदेश से लौटे व जमात से संबंधित लोगों के छिपे होने की आशंका को देखते एलआइयू को पूरा रिकार्ड खंगालने के आदेश दिए गए हैं। हर व्यक्ति से पुलिस निजी तौर पर मिलेगी।

No comments