Latest News

बेजुबानों के लिये मसीहा बने पंकज

सड़को पर अन्ना मवेशियों एव बंदरो को दे रहे भोजन

फतेहपुर, शमशाद खान । लॉकडाउन के कारण जहां लोग घरो में सिमट हुए है। बड़ी संख्या में लोगो के काम धंधे बन्द होने से लोगो के सामने दो जून की रोटी तक के लिये मुश्किल बनी हुई है। ऐसे में इंसानों के साथ साथ पशुओं तक के खाने को लाल पड़ गए। मनुष्यो पर पूरी तरह निर्भर पशुओं के जीवन की बुरी दशा देखकर भाजपा नेता व समाजसेवी पंकज त्रिपाठी ने पशुओं की मदद को हाथ आगे बढ़ाया है। बंदरो, गौवंशो के लिये पंकज त्रिपाठी द्वारा सुबह ही चारे के लिए बरसीन, बंदरो के लिये केले, खीरा बिस्कुट के पैकेट आदि अपनी कार में लेकर चलते हैं
गाय को बरसीन खिलाते समाजसेवी पंकज त्रिपाठी।
जहां भी इन्हें झुंड में भूखे पशु दिखाई देते है यह उन्हें बरसीन आदि खिलाने के काम करते है। वही बंदरो के झुंड को केले, खीरा, बिस्कुट का पैकेट देकर उनकी भूख को मिटाने का काम करते है। बेजुबानों की भूख मिटाने के लिये उनके द्वारा किये जा रहे कार्यो की लोग जमकर सराहना कर रहे है। समाजसेवी पंकज त्रिपाठी ने बताया कि लॉक डाउन के कारण लोग घरो में है। बाजार, होटल सब बन्द है। ऐसे में अन्ना मवेशियों के भोजन का संकट गहरा गया है। लोगो के घरो एव होटलों से निकलने वाला भोजन ही इन अन्ना मवेशियों की जीविका थी जो लॉकडाउन के कारण बन्द हो गयी है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा प्रतिदिन पशुओं के लिये बरसीन व बंदरो के लिये खाने की सामग्री लेकर सड़को पर भूख से परेशान पशुओं को खिलाने का काम किया जा रहा है।

No comments