Latest News

जनपद प्रवेश के संभावित मार्गों पर रहे पैनी नजर: डीएम

कोरोना महामारी में प्रशासन के पुख्ता इंतजाम
डिप्टी आरएमओ, सहायक निबंधक सहकारी समितियां, सचिव मंडी समिति तथा पीसीएफ के अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही के दिए निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में कोरोना वायरस की रोकथाम से संबंधित बैठक संपन्न हुई।
जिलाधिकारी ने बताया कि 25 अप्रैल को कंट्रोल रूम में 23 शिकायतें भोजन तथा राशन की प्राप्त हुई। जिनका तत्काल निस्तारण कराया गया। 28 ग्राम पंचायतों में ब्लीचिंग का छिड़काव, 37 ग्राम पंचायतों में टैंकरों के माध्यम से पानी सप्लाई, 8 ग्राम पंचायतों पर कोरोना वायरस रोकथाम संबंधित प्रचार-प्रसार, 604 लोगों के मध्य गांव में पोस्ट मास्टरों ने धनराशि बांटी है। इसके अलावा 1466 मीट्रिक टन गेहूं खरीद, 256 किसानों के 648 कुंतल भूसा दान जिसमें 17 किसानों ने 25 कुंतल से अधिक भूसा दान, 8 मार्च को ओलावृष्टि तथा अतिवृष्टि से हुए किसानों के नुकसान को देखते हुए 254 किसानों को डीबीटी के माध्यम से फसल बीमा योजना का लाभ, आरोग्य सेतु एप 3101 लोगों के मध्य डाउनलोड, 4750 निराश्रित, असहायों को भोजन वितरण, 31  गौशालाओं का निरीक्षण पशु विभाग, खंड विकास अधिकारियों ने 5-5 गांव का भ्रमण कर गांव में ग्राम स्तरीय निगरानी समिति की बैठक तथा अन्य विकास कार्यो का निरीक्षण किया है। टेलीमेडिसिन के माध्यम से 126 मरीजों का इलाज कर निशुल्क दवा उपलब्ध कराई गई। जिलाधिकारी ने कहा कि टेलीमेडिसिन पर जिला अस्पताल के अलावा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर बढ़ाया जाए। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से कहा कि सभी चिकित्सालयों पर महामारी को देखते हुए व्यवस्थाएं दुरुस्त रहे। 
बैठक में निर्देश देते डीएम-एसपी।
जिलाधिकारी ने आरोग्य सेतु ऐप के डाउनलोड पर कहा कि शासन स्तर पर लगातार इसकी समीक्षा की जा रही है। जिन विभागों को जो लक्ष्य दिया गया है वह शत प्रतिशत पूरा करें। आम जनमानस में भी इसको अधिक से अधिक डाउनलोड कराएं। उन्होंने गांव में नामित नोडल अधिकारियों से कहा कि गांव में आरोग्य सेतु एप के बारे में जानकारी दें। जिला विद्यालय निरीक्षक से कहा कि शासकीय, प्राइवेट विद्यालयों पर शिक्षकों को लक्ष्य देकर शत-प्रतिशत अध्ययन छात्र तथा छात्राओं को डाउनलोड कराएं। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से कहा कि जो मानता प्राप्त विद्यालय हैं उनको भी लक्ष्य निर्धारित कर इस कार्य पर प्रगति बढ़ाएं। मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि सभी विभागों को लक्ष्य निर्धारित करें। कहा कि 29 अप्रैल को ग्राम पंचायतों पर खुली बैठक कराकर सभी नोडल अधिकारी जो खाद्यान्न वितरण में लगाए गए हैं वह निगरानी समिति की उपस्थिति में लोगों के मध्य एप का डाउनलोड कराएं। जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों से कहा कि जनपद के बॉर्डर से कैसे लोग आवागमन कर रहे हैं। इस पर नियंत्रण रखा जाए। अपर पुलिस अधीक्षक से कहा कि पुलिस बल को निर्देश अवश्य जारी कर दें कि पास के अलावा कोई भी व्यक्ति बॉर्डर से आने जाने न पाए तथा जो संभावित रास्ते हैं उन पर भी विशेष नजर रखी जाए। उन्होंने कहा कि गेहूं क्रय केंद्रों पर सभी व्यवस्थाएं रहे। कहीं पर कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। तिरपाल आदि की व्यवस्था अवश्य करा लें। उन्होंने डिप्टी आरएमओ, सहायक निबंधक सहकारी समितियां, सचिव मंडी समिति तथा पीसीएफ के अधिकारियों द्वारा कार्यों में रुचि न लेने पर अपर जिलाधिकारी से कहा कि इनके खिलाफ कार्यवाही कराएं। बैठक में खंड विकास अधिकारी पहाड़ी के उपस्थित न होने पर स्पष्टीकरण मांगा। जल निगम तथा जल संस्थान के अधिकारियों से कहा कि पेयजल की समस्याओं का तत्काल निस्तारण कराएं। खण्ड विकास अधिकारियों से कहा कि मनरेगा में लोगों को रोजगार दें जो लोग बाहर से आए हैं उनका जॉब कार्ड तत्काल बनवा कर कार्य कराएं। प्रत्येक गांव पर सौ से अधिक मजदूर अवश्य लगाए। इसमें सचिव, रोजगार सेवक व तकनीकी सहायक को लगाकर कार्यों पर तेजी लाएं। नोडल अधिकारी भ्रमण के दौरान मनरेगा के कार्यों का निरीक्षण अवश्य करें। उन्होंने यह भी कहा कि गौशालाओं पर भूसा दान कराएं। उप जिलाधिकारियों से कहा कि आपदा राहत के जो पैकेट निराश्रित तथा असहायों के मध्य बांटा जाना है उसको तत्काल शुरू करा दें। उन्होंने कहा कि जो लोग क्वॉरेंटाइन थे उन्हें भी घर-घर खाद्यान्न पहुंचाया जाना है। जिसकी व्यवस्था करा ले। किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं होना चाहिए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार, अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चैधरी, उप जिलाधिकारी आदि मौजूद रहे।

No comments