Latest News

प्रवासी मजदूरों की व्यवस्था सुनिश्चित करायें प्रदेश सरकारें: साध्वी

वीडियो कांफे्रसिंग में केन्द्रीय राज्यमंत्री के सुझाव पर मिली सहमति 
 
फतेहपुर, शमशाद खान । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस पर चर्चा के लिए भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सभी प्रदेशों के अध्यक्षों व मंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग का आयोजन किया। जिसमें शामिल हुयीं केन्द्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने प्रवासी मजदूरों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाया। उन्होने कहा कि प्रवासी मजदूरों की व्यवस्था प्रदेश सरकारें सुनिश्चित करें। उनके इस सुझाव पर वीडियो कांफ्रेसिंग में मौजूद सभी लोगों ने सहमति व्यक्त की। 
वीडियो कांफ्रेसिंग में हिस्सा लेतीं केन्द्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति।
बताते चलें कि कोरोना वायरस पर चर्चा व समस्याओं के निवारण को लेकर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वीडियो कांफ्रेसिंग का आयोजन किया। इस कांफ्रेसिंग में सभी प्रदेश अध्यक्ष, केन्द्रीय मंत्री, केन्द्रीय राज्यमंत्री, प्रदेशांे के राज्यमंत्रियों ने हिस्सा लिया। जिले की सांसद एवं केन्द्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने मूसानगर आश्रम में रहते हुए इस वीडियो कांफ्रेसिंग में शिरकत की। सभी बड़े नेताओं ने अपने-अपने जिलों व प्रदेशों की समस्याओं को राष्ट्रीय अध्यक्ष के समक्ष रखा। इसी क्रम में भारत सरकार की ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को तमाम दुश्वारियों से गुजरना पड रहा है। कई प्रदेशों में प्रवासी मजदूरों के साथ उपेक्षापूर्ण व्यवहार किया जा रहा है। उनकी समस्याओं को सरकारें हल नहीं कर रही हैं। जिससे प्रवासी मजदूर बेहद परेशान हैं। उन्होने कहा कि उत्तर प्रदेश के भी तमाम मजदूर सूरत, मुम्बई, लुधियाना समेत अन्य स्थानों पर लाकडाउन में रहकर समस्याओं से जूझ रहे हैं। इन सभी प्रवासी मजदूरों की समस्याओं का निस्तारण प्रदेश सरकारें कराने का काम करें। साध्वी के इस सुझाव पर वीडियो कांफ्रेसिंग में मौजूद सभी लोगों ने सहमति व्यक्त की। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि सभी सुझावों पर अमल करने का प्रयास किया जायेगा। प्रवासी मजदूरों को लेकर केन्द्र सरकार बेहद गम्भीर है। जल्द ही इसका निस्तारण भी किया जायेगा। 

1 comment:

  1. जनपद फतेहपुर के जो लोग बाहर नौकरी के उद्देश्य गए थे और वहां फंस गए हैं और वहां परेशान है उनको घर आने के बारे में भी हमारी भारत सरकार को विचार करना चाहिए ताकि वह अपने पारिवारिक जनों के पास सकुशल वापस आ सके यह समस्या इस समय बहुत गंभीर है हजारों लोग बाहर फंसे हुए हैं जिनके लिए एक-एक दिन बहुत मुश्किल हो रहा है

    ReplyDelete