Latest News

हर व्यक्ति तक पहुंचे खाद्य सामग्री: डीएम

किसानों को नहीं होना चाहिए समस्या, 24 घंटे खुले रहें कंट्रोल रूम
15 अप्रैल से मिलेगा निःशुल्क राशन

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय तथा पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल की उपस्थिति में कोरोना वायरस की रोकथाम, बचाव से संबंधित अधिकारियों की अद्यतन सूचनाओं सहित बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई।
जिलाधिकारी ने कहा कि जो अधिकारी कंट्रोल रूम में लगाए गए हैं वह लगातार शिकायतों को सरलतापूर्वक सुने। शासन से जो निर्देश प्राप्त हुए हैं उन दिशा निर्देशों को ग्रुप में डाला जाता है। उसका अच्छी तरह से अध्ययन अवश्य करें। कोई भूख से पीड़ित न रहे। हर व्यक्ति तक खाद्य सामग्री पहुंचे। जनपद स्तर पर जिला पूर्ति अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित कर दिया जाए। जहां जरूरत होगी वहां पर उप जिलाधिकारी तथा खंड विकास अधिकारियों के स्तर से समाधान कराएंगे। जिस अधिकारी की मदद की आवश्यकता हो वह दी जाएगी। राशन की काफी समस्याएं प्राप्त हो रही हैं। जिनका निस्तारण शत-प्रतिशत कराएं तथा जो शासनादेश प्राप्त हुआ है उसे उपलब्ध कराएं। कटे हुए राशनकार्ड को सही कराकर लोगों को खाद्यान्न दें। शासन ने निर्देश दिए हैं कि सभी सरकारी, गैर सरकारी तथा विद्यालयों और विभागों के सभी अधिकारियों तथा कर्मचारियों का वेतन प्रत्येक दशा में 7 अप्रैल तक अवश्य उपलब्ध करा दिया जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए हैं कि हर व्यक्ति घर से बाहर निकले तो मास्क, तोलिया, गमछा से अपना मुंह जरूर ढके और प्रतिदिन उसे धोकर ही पहने। पर्याप्त रूप से कम्युनिटी किचन में दोनों समय लोगों को भोजन उपलब्ध कराते रहें जो सामाजिक संस्थाएं व्यवस्था कर रही हैं उसकी भी सूचना रखें। एलपीजी गैस सिलेंडर जिन्हें निशुल्क दिया जाना है वह शत प्रतिशत उन्हें मिलें। कंट्रोल रूम पूर्णतया 24 घंटे चलें। अपर जिलाधिकारी लगातार इसकी भ्रमण कर समीक्षा किया जाए। श्रम विभाग में जितने पंजीकृत
बैठक में निर्देश देते डीएम, एसपी।
श्रमिक हैं उनके खाता संख्या तत्काल खण्ड विकास अधिकारी उपलब्ध कराएं। ताकि शासन को भेजा जा सके। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी से कहा कि सचिवों को लगाकर गांव और आशाओं के रजिस्टर चेक कर लें कि जो बाहर से आए व्यक्तियों की होम आइसोलेशन की सूची दी है तो वह सही है कि नहीं तथा जो खाद्यान्न वितरण में नोडल अधिकारी लगाए गए हैं वह भी अपने संबंधित गांव की सभी व्यवस्थाओं को चेक कर रिपोर्ट दें। न्याय पंचायत वार भी नोडल अधिकारी नामित कर दिया जाए। जिला पूर्ति अधिकारी से कहा कि जो अधिकारी खाद्यान्न वितरण में नहीं जा रहे हैं उसकी सूची जिला विकास अधिकारी को उपलब्ध करा दें तथा आवश्यक वस्तुओं की पर्याप्त मात्रा बनी रहे। अगर कोई समस्या हो तो उसे अवगत कराएं ताकि निस्तारण कराया जा सके। मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि जो लोग बाहर के रोके गए हैं वहां पर स्वयं जाकर व्यवस्थाओं को देखें। अगर कोई बीमार व्यक्ति पाया जाए तो तत्काल उसे चिकित्सालय में भर्ती कराएं। कहीं पर कोई असुविधा नहीं होना चाहिए। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से कहा कि जिला अस्पताल में और आइसोलेशन वार्ड तैयार कर ले। मुख्य चिकित्सा अधिकारी निरीक्षण कर अवगत कराएं और जो दवाएं न हो उनकी तत्काल व्यवस्था करा ले। मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक जो चिकित्सक बात न माने तो उनके खिलाफ कार्यवाही करें। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि 15 अप्रैल से जो खाद्यान्न वितरण होना है। उसमें प्रत्येक राशनकार्ड धारकों को प्रत्येक यूनिट 5 किलो चावल निशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। अंत्योदय कार्डधारकों को भी यूनिट के आधार पर खाद्यान्न निशुल्क मिलेगा। उन्होंने खंड विकास अधिकारियों से कहा कि जिन लोगों के राशन कार्ड नहीं बने हैं उनकी सूची उप जिलाधिकारियों को उपलब्ध कराकर राशन कार्ड बनवाएं। ताकि उन्हें खाद्यान्न दिया जा सके तथा होम डिलीवरी लगातार चलाई जाए और अधिक रेट की समस्या कहीं से प्राप्त न हो जिलाधिकारी ने कहा कि होम डिलीवरी के वाहन जो चल रहे हैं उसकी सूची अपर जिला अधिकारी को उपलब्ध कराएं। जिला पंचायत राज अधिकारी से कहा कि सभी गांव में सफाई अच्छी तरह से कराएं तथा ब्लीचिंग का भी छिड़काव कराया जाए। गांव नगर में कोरोना वायरस के बचाव की जागरूकता को बढ़ावा दिया जाए तथा कीटनाशक दवाओं का अधिक से अधिक छिड़काव करें। उन्होंने यह भी कहा कि जो ब्लॉक के नोडल अधिकारी नामित किए गए हैं वह खंड विकास अधिकारियों के द्वारा निरीक्षण किए गए गांव की रेंडम चेकिंग कर रिपोर्ट दें। उन्होंने सभी खंड विकास अधिकारियों से कहा कि सभी गौशाला संचालन में सफाई कर्मियों को लगा दिया जाए। कहीं पर कोई समस्या न हो। प्रत्येक गौशाला में दो-दो व्यक्तियों को 24 घंटे रखें और पशु चिकित्सा अधिकारी गोवंशों का स्वास्थ्य परीक्षण लगातार करते रहे। उन्होंने कृषि संबंधित समस्याओं पर उप निदेशक कृषि को निर्देश दिए कि लगातार समीक्षा करते रहे। कहीं पर किसानों को समस्याएं नहीं होनी चाहिए। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि इस महामारी को देखते हुए जिन अधिकारियों को जो जिम्मेदारी दी गई हैं वह निष्ठापूर्वक कार्य करें। कहीं पर कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। इसका विशेष ध्यान दें। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार, अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, उप जिलाधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments