Latest News

समय के साथ चलना सीखे...............

देवेश प्रताप सिंह राठौर 
(वरिष्ठ पत्रकार)

.समय धन से भी ज्यादा कीमती है; क्योंकि यदि धन को खर्च कर दिया जाए तो यह वापस प्राप्त किया जा सकता है हालांकि, यदि हम एक बार समय को गंवा देते हैं, तो इसे वापस प्राप्त नहीं कर सकते हैं। समय के बारे में एक सामान्य कहावत है कि, "समय और ज्वार-भाटा कभी किसी की प्रतीक्षा नहीं करते हैं।" यह बिल्कुल पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व की तरह ही सत्य है, अर्थात्, जिस तरह से पृथ्वी पर जीवन का होना सत्य है, ठीक उसी तरह से यह कहावत भी बिल्कुल सत्य है। समय बिना किसी रुकावट के निरंतर चलता रहता है। यह कभी किसी की प्रतिक्षा नहीं करता है।समय पृथ्वी पर सबसे कीमती वस्तु है, इसकी तुलना किसी से भी नहीं की जा सकती है। यदि एकबार यह चला जाए, तो कभी वापस नहीं आता। यह हमेशा आगे की ओर सीधी दिशा में चलता है और न कि पीछे की ओर। इस संसार में सब कुछ समय पर निर्भर करता है, समय से पहले कुछ भी नहीं होता है। कुछ भी करने के लिए कुछ समय की आवश्यकता होती है।यदि हमारे पास समय नहीं है, तो हमारे पास कुछ भी नहीं है। समय को नष्ट करना इस पृथ्वी पर सबसे बुरी चीज मानी जाती है क्योंकि, समय की बर्बादी हमें और 
हमारे भविष्य को बर्बाद करती है। हम कभी भी बर्बाद किए हुए समय को फिर से प्राप्त नहीं कर सकते हैं। यदि हम अपना समय बर्बाद कर रहे हैं, तो हम सब कुछ नष्ट कर रहे हैं।कुछ लोग समय से ज्यादा अपने धन को महत्व देते हैं हालांकि, सत्य तो यही है कि समय से ज्यादा कीमती कुछ भी नहीं है। यह समय ही है, जो हमें धन, समृद्धि और खुशी प्रदान करता है हालांकि, इस संसार में कुछ भी समय को नहीं दे सकता। समय का केवल उपयोग किया जा सकता है; कोई भी समय को खरीद या बेच नहीं सकता। बहुत से लोग अपना जीवन अर्थहीन ढंग से जी रहे हैं। वे समय का उपयोग केवल अपने दोस्तों के साथ खाने, खेलने या अन्य आलसी क्रियाओं को करने में करते हैं।इस तरह से वे दिन और वर्षों को व्यतीत करते हैं। वे कभी भी नहीं सोचते कि, वे क्या कर रहे हैं, किस तरीके से कर रहें हैं, आदि। यहाँ तक कि, उन्हें गलत तरीके से समय को बर्बाद करने का भी पश्चाताप भी नहीं होता और कभी उसके लिए अफसोस महसूस नहीं करते हैं। अप्रत्यक्ष रुप से, वे अपना बहुत सा धन और उससे भी अधिक महत्वपूर्ण समय खो देते हैं, जिसे वे कभी भी वापस प्राप्त नहीं कर सकते हैं।हमें दूसरों की गलतियों से सीखने के साथ ही दूसरों की सफलता से प्रेरित होना चाहिए। हमें अपने समय का उपयोग कुछ उपयोगी कामों को करने में करना चाहिए ताकि, हमें समय समृद्धि दे, न कि नष्ट करे। कहा जाता है कि जो व्यक्ति समय स्थित परिस्थिति को देखकर कार्य नहीं करता वह आगे पश्चाताप करना पड़ता है ।आज भारत में जो समय चल रहा है उस समय के मुताबिक देश को देश के प्रधानमंत्री के दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करते हुए भारत को 130 करोड़ जनता को पूर्ण ईमानदारी के साथ चलने की जरूरत है तभी हम कोरोना वायरस के संकट से बच सकेंगे क्योंकि आज जो स्थित है पूरे विश्व की पूरा विश्व आज समय की मार से त्रस्त चल रहा है ।कुछ अराजक तत्व जो देश है पाकिस्तान हुए यह भारत का इस घड़ी में अहित करने की सोच तैयार कर रहे हैं भारत को इन सब से समय के हिसाब से बचना है और पाकिस्तान जैसे आतंकवादी देशों को भी सचेत होकर कार्य करना है क्योंकि पाकिस्तान हर पल भारत का नुकसान करने के लिए तत्पर रहता है। क्योंकि भारत में बैठे लोग बहुत से ऐसे हैं जो भारत में रहते हैं और समय समय पर पाकिस्तान के गुणगान करते हैं ।इस देश में कानून शक्ति पूर्ण न होने के कारण  हर व्यक्ति को कुछ भी बोलने की समय-आसमय पर पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त है। जिस कारण यह लोग डर नाम की चीज नहीं है क्योंकि कुछ विपक्षी दल इन लोगों को बचाने का काम करने लगते हैं और जाकर जेएनयू जैसे विश्वविद्यालयों में कन्हैया कुमार खालिद जैसे लोगों का समर्थन करने उनके घरों पर जाते हैं यह भारत देश ऐसे लोगों को नेता बना
देता है तथा उन्हें इलेक्ट्रॉनिक्स मीडिया वाले अपने चैनलों में बुलाकर उनको बड़े सम्मान के साथ उनका इंटरव्यू लेते हैं और उन्हें देश का हीरो बना देते हैं ।आज भारत में जिस तरह से भारत के प्रधानमंत्री जी ने अच्छी दिशा दृष्टि से देश को कोरोना वायरस से बचाने के लिए इतने अच्छे प्रयास किए हैं ।उन प्रयासों पर तबलीगी जमातईओ ने बहुत बड़ा देश को संकट में डालने के साथ बड़ी परेशानी खड़ी कर दी है। यह सब पाकिस्तान के समर्थक हैं मुझे लगता है जिस तरह से तबलीगी जमातइयों द्वारा पूरे देश में जब जब पूरे देश में कोरोनावायरस से बचने हेतु जागरूकता अभियान चल रहा था कोरोना वायरस से बचाने का उस समय तबलीगी जमात धर्म का प्रचार करने कोरोना वायरस को साथ लेकर पूरे देश में घूम रहे हैं ।यह एक सोची समझी रणनीति के तहत इन तबलीगी जमातईओ  द्वारा किया गया समय के अनुसार यह पाकिस्तान से मिलकर इन्होंने भारत में कोरोना वायरस का आतंकवादी बनाकर भेजें जो भारत के कोने कोने पर जाकर संकट फैला दिया है जिसे भारत सरकार देश के मुखिया माननीय नरेंद्र मोदी जी इस संकट को अवश्य दूर कर सकेंगे परंतु इन जमातीयों को सख्त से सख्त कार्रवाई करते हुए इनके सभी चीजों पर तत्काल बैन लगना चाहिए और इन्हें कानून के दायरे में सख्त सेसख्त सजा देने का प्रावधान बनाया जाए। क्योंकि शितलता हर जगह हानिकारक होती है। जो आज तबलीगी जमातयों के द्वारा दिखाई दिया पूरा विश्व कोरोना वायरस से ग्रस्त है और धर्म के नाम पर कोरोना वायरस का आतंकवादी पाकिस्तान के संरक्षक देश में कोरोना फैला रहे हैं इसे समझने की आज देश को जरूरत है।

No comments