Latest News

स्थिति देख लॉक डाउन पढ़ने की स्थित....................... देवेश प्रताप सिंह राठौर (वरिष्ठ पत्रकार)............

 भारत देश 130 करोड़ की आबादी वाला भारत देश आज कोरोना वायरस के कारण पूरा देश लॉक डाउन है। वैसे आप लोग सुनते होंगे इलेक्ट्रॉनिक चैनलों के माध्यम से तबलीगी जमात ने 8 दिनों में पूरा कोरोनावायरस का देश का समीकरण बदल रखा है और आप सुन रहे हैं देख रहे हैं कि यह लोग अस्पतालों में कोरोनावायरस के पॉजिटिव मरीज होते हुए भी अस्पतालों में जो डॉक्टर इलाज कर रहे हैं जो नरसे इलाज कर रही हैं जो पैरामेडिकल के लोग लगे हुए हैं किस तरह उनके साथ अभद्र व्यवहार कर रहे हैं ।जबकि जमातीओं में अधिकतर कोरोना वायरस पॉजिटिव होने के कारण उन्हें यह नहीं है कि हमारे इलाज करने वाले डॉक्टर हमारे जीवन को बचा रहे हैं, और वह उनके ऊपर थूक रहेहैं और अपने मनपसंद का खाना बिरयानी चिकन मांगा रहे हैं तथा वस्त्र हीन होकर अभद्ररूप धारण किए हैंयह हालात तबलीगी जमातइयों ने फैला रखा है इससे स्पष्ट होता है कि यह एक सोची-समझी नीत के तहत संगठित होकर तबलीगी जमातइयों ने देश में कोरोनावायरस को फैलाने हेतु एक संगठन के रूप में अपने को संगठित करके पूरे देश में इसे फैलाने के लिए फैल चुके हैं ।क्योंकि जिस तरह की यह हरकत कर रहे हैं आम इंसान कोरोना वायरस युक्त व्यक्त व्यक्ति कोरोनावायरस का  व्यक्ति को इस तरह की हरकत नहीं करेगा जो यह जमाती के लोग कर रहे हैं और धर्मगुरु जो धर्म के रक्षक बने बैठे हैं उन्हें बचाने का काम कर रहे हैं आज पूरा विश्व कोरोना वायरस के चपेट में ग्रस्त है सब अपने को एकजुटता के साथ इसे बड़े संकट को निपटने हेतु लगे हैं वहीं पर तबलीगी जमात के लोग देश में कोरोना वायरस फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। जो भारत के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी ने 21 दिन का लॉक डाउन किया पूरे देश के लिए कि जल्द से जल्द कोरोना वायरस से भारत निजात पा सके परंतु तबलीगी जमातइयों के संज्ञान में आने के बाद इनकी संख्या सैकड़ों सैकड़ों में प्रतिदिन बढ़ती जा रही है जो एक चिंता का विषय है और इन जमातीओ के जो भाव और लक्षण हैं उससे स्पष्ट होता है यह आतंकवादी है देश के दुश्मन हैं जो पाकिस्तान के इशारे पर कार्य कर रहे हैं क्योंकि जो हरकतें कर रहे हैं वह देश का सच्चा नागरिक इस देश का बाशिंदा नहीं कर सकेगा आज भारत देश पूरा तथा समस्त राज्य सरकारें तबलीगी जमातइयों की तलाश में जुटी हुई है अगर इन्हें देश की इतना ही चिंता रहे तो यह सब लोग अपने को सरकार के सामने सरेंडर कर दें और अपना इलाज कराएं क्योंकि देश आज कोरोना वायरस के संकट से जूझ रहा है अमेरिका जैसा देश आज कोरोना वायरस से तड़प रहा है उसकी समझ में नहीं आ रहा है इस तरह हम अपने आदमियों को अपने देश के लोगों को बचाएं और रक्षा कर सकें जबकि मेडिकल लाइन में विश्व का नंबर वन अमेरिका आज घुटने टेक दिए हैं। देश और विश्व का इतना आर्थिक नुकसान हो रहा है मैं आपको बताना चाहता हूं वर्ष 1977 में जॉर्ज फर्नांडिस जॉब रेलवे की हड़ताल के लिए बिगुल बजाया था उस समय भी चक्का जाम नहीं हुआ था रेल का भारत के इतिहास में कभी भी रेलवे बंद नहीं हुई है आजादी के बाद जॉर्ज फर्नांडिस ने रेल की हड़ताल कराई थी उस समय इमरजेंसी जैसे हालात हैं फिर भी ले ले चली थी आज पूरा देश सुनने की स्थिति में है बिल्कुल शांत और लोग प्रधानमंत्री के दिए गए दिशा निर्देशों का पालन भी कर रहे हैं पर यह अल्पसंख्यक समुदाय के लोग हमेशा विपरीत दिशा में कार्य करते हैं यह उनकी फितरत बनी हुई है जिसे कोई भी सरकार चाहे जितना भी इनको प्रलोभन और लाभ देने का प्रयास करें यह धोखा देने के सिवाय कभी भी सच्चे रास्ते पर चल नहीं चल सकते मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि भारत में देश को बर्बाद करने में देश की एकता अखंडता को नुकसान पहुंचाने में यह लोग आज भी सबसे आगे हैं जबकि रहते भारत देश में है  गुण गान गाते हैं पाकिस्तान का ऐसे लोगों को इस देश में रहने का अधिकार नहीं होना चाहिए। परंतु एक कहावत कही गई है घर का भेदी लंका ढाए हमारे घर में ही जयचंद बैठे हुए हैं तो हम कैसे आतंकवादियों को देश के गद्दारों को देश विरोधी गतिविधियों से लिप्त लोगों को कैसे नष्ट कर सकेंगे जिस देश में कन्हैया कुमार जेएनयू के अध्यक्ष जो आजादी की बात करता है वह इस देश का नेता बना दिया जाता है मीडिया वाले उसे अपने चैनलों में बुलाते हैं और वह देश के खिलाफ बात करता है और सुरक्षा मिली हुई है तथा देश का नेता बना बैठा है जब इस धारणा से गद्दारों को देश का नेता बनाया जाएगा उस स्थिति में देश ऐसे गद्दारों से मुक्त हो सकेगा कभी नहीं आज भारत में बहुत से लोग ऐसे हैं वर्ष 1971 की जा पाकिस्तान भारत की लड़ाई हुई थी वीर अब्दुल हमीद ने पाकिस्तान के छक्के छुड़ा दिए थे आज वीर अब्दुल हमीद जैसे लोग इस देश में कम है तैमूर जैसे लोगों की संख्या बढ़ गई है। आपने देखा होगा भारत देश में फिल्मी हस्तियां से लेकर राजनीतिक लोग उद्योगपति लोग अल्पसंख्यक बहुत है जो आज की तिथि में बहुसंख्यक की स्थित है परंतु प्रधानमंत्री कोष में इस आपदा के लिए किसी ने दान किया नहीं क्योंकि इस देश में इन लोगों को इतना दिया है कि अन्य देश इन्हें धन और सम्मान नहीं प्राप्त होता फिर भी आज भारत की दिक्कत में इन लोगों ने अपार धन होते हुए भी प्रधानमंत्री कोष में दान देने की बात नहीं कही है। करोना वायरस से भारत सरकार चिंतित है क्योंकि अगर यह कहीं गांव में फैल गया तो इसको नियंत्रण करना बहुत मुश्किल होगा भारत के लिए क्यों भारत अभी मेडिकल के हिसाब से इतना मजबूत नहीं है पूरे भारतवर्ष में एक लाख वेंटिलेटर है। गांव की जनसंख्या अगर यह महामारी फैली तो कैसे नियंत्रण होगी इस गंभीरता को सरकार समझती है ।हमें आप को भी समझना है जो लोग भटक रहे हैं और इस कोरोना वायरस को बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं वह सच्चे देश के नागरिक बने क्योंकि देश आपका है इसी के बरगलाने में आप अपना ही अहित कर रहे हैं आप समझे और सरकार की बनी नीति रीत के आदेशों का पालन करें।

No comments