Latest News

घर में ही पूजन कर श्रद्धालुओं ने किया व्रत का पारण

बबेरू, कृपाशंकर दुबे । चैत्र नवरात्रि के नवें दिन जगत जननी दुर्गा माता घर घर में पूजी गई। नवें स्वरूप सिद्विदात्री माता का विधि विधान से पूजन कर ब्रत का पारण किया। लाॅकडाउन की वजह से देवी भक्त मंदिर नही जा सके। जवारों का तालाब में विसर्जित कर देश की खुशहाली के लिए कामना किया। 
देश में कोरोना वाइरस का खतरा होने पर लाॅकडाउन नवरात्रि के दिन से घोषित कर दिया गया था। प्रशासन ने मंदिरों में ताला लगवा दिया था। नवरात्रि पर सिद्वि पीठ मढीदाई मंदिर बबेरू में भव्य सजावट होती थी। आसपास गांवों समेत सुदुर क्षेत्रों के श्रद्वालु दर्शन करने आते थे। इसी तरह यमुना नदी के तट पर स्थित बाकल की जोगिनी दाई में विशाल मेला लगता था। जहां
जोगिनी दाई मंदिर में पडा ताला
कई प्रान्तों के श्रद्वालु दर्शन करने एवं मनौती पूर्ण होने पर भंडारा और चढौना चढाते थे। लेकिन कोरोना वाइरस के कारण मंदिरों के पट बंद होने से मंदिरों में सन्नाटा छाया रहा। कोरोना वाइरस के कारण श्रद्वालुओं ने घर घर में जगत जननी दुर्गा माता का पूजन अर्चन करने के लिए मजबूर हो गए। नवें दिन श्रद्वालु भक्तों ने जगत जननी दुर्गा माता के नवें स्वरूप सिद्विदात्री माता का विधि विधान पूर्वक पूजन अर्चन किया और ब्रत का पारण कर देश की खुशहाली के लिए जगत जननी दुर्गा माता से कामना किया। जगत जननी दुर्गा माता घर घर में पूजी गई और आस्थावान भक्तों ने कन्याओं को दूर दूर बैठाकर पूजन अर्चन कर भोज कराया।  उसके बाद श्रद्वालु भक्तों ने जवारों को घसिला ताला में समाजिक दूरियां बनाकर विसर्जित किया।

लाक डाउन के कारण धरी रह गईं रामनवमी की तैयारियां 
बांदा। चैत्र नवरात्रि के नवें दिन रामजन्मोत्सव श्री रामनवमी का पर्व पर बबेरू में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता रहा और रामनवमी की भव्य शोभा यात्रा निकाली जाती थी। रामनवमी की सभी तैयारिया कोरोना वाइरस के कारणं धरी की धरी रह गई। श्री रामनवमी महोत्सव समिति के संयोजक शिवविलाश शर्मा, अध्यक्ष विक्रम सिंह ने बताया कि देश संकट से जूझ रहा है। इस लिए रामनवमी का कार्यक्रम स्थगित कर घर घर में नौ नौ दीपक जलाकर राम जन्मोत्सव मनाने की अपील की गई थी। जो आस्थावान लोगो ने शायं को अपने घरों में दीपक जलाकर रामजन्मोत्सव मनाया और कोरोनो वाइरस नामक आसुरी शक्ति को नष्ट करने के लिए कामना की गई है। 

No comments