Latest News

मुसीबत की घड़ी है सभी के लिए, न कि किसी एक के लिए

हर परिस्थिति में अपनों से जुडें रहें, मुश्किलें होंगी कम: डा. हरदयाल 
 
बांदा, के0 एस0 दुबे । लाकडाउन लागू हुए एक महीना होने को है। इतने लम्बे समय तक घरों की लक्ष्मण रेखा के अंदर रहते-रहते ऊबना स्वाभाविक है, लेकिन इस वायरस से बचने का और कोई उपाय भी तो नहीं है। ऐसे में अपनों का साथ होना और अपनों से बात होना बेहद जरूरी है। 
जिला अस्पताल के मनोरोग विशेषज्ञ डा. हरदयाल के मुताबिक लाक डाउन के कारण अचानक जिन्दगी की रफ्तार धीमी हो गई है, लोगों का मेलजोल कम हो गया है, जिसके चलते अवसाद और चिड़चिड़ापन की समस्या पैदा हो सकती हैं। इसलिए अपनों पर भरोसा करना और उनका साथ देना नहुत जरूरी है। अगर परिवार के साथ रह रहे हैं तो आपस में बातचीत करते रहें, एक-दूसरे की बात ध्यान से सुनें, बेवजह टोकाटाकी से बचें। घर के अन्दर रहने का जो यह वक्त मिला है उसमें यह नियम बना लें कि परिवार के सभी सदस्य साथ बैठकर भोजन करें। इस
डा. हरदयाल
स्वस्थ माहौल से मानसिक तनाव अपने आप दूर हो जायेगा। जो लोग परिजनों से दूर दूसरे शहरों में फंसे हुए हैं, खासकर उनके लिए यह समय मुश्किल भरा है। परिस्थिति ऐसी है कि बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक के मन में तरह-तरह के सवाल पैदा हो सकते हैं। बच्चों को जहां अपनी पढ़ाई और परीक्षा की चिंता है तो युवाओं का नौकरी और भविष्य को लेकर चिंतित होना लाजमी है। बुजुर्गों को जहां अपने परिवार की चिंता है तो वहीं स्वास्थ्य को लेकर भी उनके मन में तरह-तरह के सवाल पैदा हो सकते हैं। इसलिए ऐसे वक्त में उनसे फोन के जरिये जुड़े रहें। उन्हें समझाएं कि जान है तो जहान है। यदि जान बची तो फिर सब काम होंगे, जिन्दगी आगे बढ़ेगी। इतने भर से उनका दुःख आधा हो जाएगा। वहीं अगर अकेले रह रहे हैं तो दिनचर्या में बदलाव लाएं, कोई फिल्म या सीरियल देखें और किताबें पढ़ें। जिसे अपना सबसे करीबी समझते हैं उसे वीडियो काल या फोन करके भी बातचीत कर सकते हैं। इससे बोरियत कम होगी। कोई समस्या है तो किसी करीबी व्यक्ति से बात जरूर करें, बातों-बातों में कोई हल जरूर निकलेगा।   

परेशान हैं तो संपर्क करें हेल्पलाइन पर 
बांदा। विश्व स्वास्थ्य संगठन से लेकर सरकार तक को इस बात का एहसास है कि इन परिस्थितियों के चलते मानसिक स्वास्थ्य की समस्याएं बढ़ जाएंगी। इसीलिए सरकार ने मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी किसी भी समस्या के समाधान के लिए टोल फ्री नंबर 1800-180-5145 पर संपर्क करने को कहा है। किसी तरह की समस्या होने पर जनपदवासी डॉ. हरदयाल से 9793826122 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

No comments