Latest News

जरूरी वस्तुओं के वाहनों पर यात्री मिले तो करें जब्त: डीएम

किसी भी दशा में बाहरी लोगों की न हो इंट्री
गांव के 100 लोगों से कराएं मनरेगा में कार्य

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में कोरोना वायरस से संबंधित बैठक संपन्न हुई।  जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों तथा पुलिस क्षेत्राधिकारियों को निर्देश दिए कि जो वाहन आवश्यक वस्तुओं के संचालन पर लगे हैं उन पर विशेष नजर रखें। यात्री को लाने व ले जाने का कार्य करते हुए पाए जाने पर कार्रवाई करते हुए वाहन को जब्त किया जाए। सेक्टर तथा जोनल मजिस्ट्रेट जांच अवश्य करें। बार्डर से किसी भी दशा में कोई भी व्यक्ति इंट्री न कर पाए। इसका विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि पुलिस क्षेत्राधिकारी पुलिस विभाग के अधिकारी, कर्मचारियों की जिम्मेदारी भी तय करते हुए व्यवस्था सुनिश्चित हो। उन्होंने कहा कि विभिन्न विभागों की जो गतिविधियां इस महामारी को देखते हुए चलाई जा रही हैं वह संबंधित विभाग प्रिंट तथा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से अधिक से अधिक प्रचार प्रसार करें। जिलाधिकारी ने खंड विकास अधिकारियों से कहा कि गौशाला का संचालन सही तरीके से किया जाए। भूसा बैंक की स्थापना कराकर भूसा दान करें। किसी गांव में किसानों को सम्मानित कराने का कार्यक्रम भी आयोजित किया जाए। गौशाला पर पेड़ लगाने का प्रस्ताव तथा मजदूरों को रखने व चारागाह में भी कार्य की व्यवस्था कराएं। इसकी कार्य योजना बनाकर तत्काल दें। टेलीमेडिसिन की प्रगति पर मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार ने कहा कि बार-बार दिशा निर्देशों के बावजूद भी प्रगति कम हो रही है। जिलाधिकारी ने सीएससी के कोऑर्डिनेटर तथा जिला सूचना विज्ञान अधिकारी को निर्देश दिए कि सीएससी के प्रभारियों को दिशा निर्देश जारी कर प्रगति बढ़ाएं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कहा कि आशा, एएनएम को लगाकर जन जागरूकता के माध्यम से लोगों को अधिक से अधिक स्वास्थ्य लाभ दिलाएं। निशुल्क दवाएं भी उपलब्ध कराई जाएं। उन्होंने कहा कि सीएससी के
बैठक में निर्देश देते डीएम, एसपी।
कोऑर्डिनेटरो को नोटिस दे। अगर ठीक से कार्य न करें तो उनके खिलाफ कार्रवाई करें। जिला सूचना विज्ञान अधिकारी से कहा कि नेटवर्क की कोई असुविधा न हो इसका विशेष ध्यान दें। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि मनरेगा के कार्यों का संचालन पूर्णतया चालू होने पर प्रदेश स्तर पर जिला नंबर एक पर है। मनरेगा के कार्यों को बढ़ाएं। ताकि गांव के लोगों को रोजगार प्राप्त हो सके। इस लाक डाउन के दौरान अभियान चलाकर कार्य करें। उन्होंने खंड विकास अधिकारियों से कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायतों पर सौ मजदूर अवश्य लगाएं। हर ग्राम पंचायत पर तालाब का कार्य कराया जाए। इसका भी प्रस्ताव तैयार करा ले। इसके साथ ही सामुदायिक प्लांटेशन का भी कार्य करा सकते हैं। अग्रणी जिला प्रबंधक इलाहाबाद बैंक से कहा कि जनधन के खाते जो बंद हो गए हैं उनका समाधान करें और इस संबंध में उनकी ओर से शासन को पत्र भी भेजा जाए। उन्होंने कहा कि उन खाताधारकों को कोई भी शासकीय योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से कहा कि स्वास्थ्य सुविधाएं सभी चिकित्सालय पर पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहें। होम क्वॉरेंटाइन लोगों का रेंडम स्वास्थ्य परीक्षण अवश्य करें। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से कहा कि ओपीडी का संचालन सही तरीके से कराया जाए। जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिए कि खाद्यान्न पाने से कोई भी व्यक्ति वंचित न रहे। किहुनिया में बोरा न होने पर अपर जिलाधिकारी से कहा कि डिप्टी आरएमओ, सहायक निबंधक सहकारी समितियां तथा पीसीएफ के प्रबंधक से जवाब तलब करें कि समय से बोरा क्यों नहीं उपलब्ध कराए गए। कार्यालय के भुगतान प्रभारी द्वारा किसानों के भुगतान में शिकायतें प्राप्त हो रही है। जिसके खिलाफ कार्यवाही कराई जाए। जिला पंचायत राज अधिकारी तथा अधिशासी अधिकारीयों से कहा कि कोरोना वायरस के बचाव तथा आरोग्य सेतु एप के बारे में अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कराकर वॉल पेंटिंग भी कराएं। नगर पंचायत राजापुर में जो पेयजल की समस्या हो रही है उसमें जल निगम द्वारा कराए गए कार्यों की जांच उप जिलाधिकारी राजापुर टीम गठित कर जांच आख्या उपलब्ध कराएं। जिलाधिकारी ने खंड विकास अधिकारियों से कहा कि जिन गांव का भ्रमण किया जाएगा उस गांव में मनरेगा के कार्य का भी निरीक्षण करेंगे। जिलाधिकारी ने विद्युत, पेयजल, कृषि, पंचायती राज, श्रम, होम डिलीवरी, आवश्यक वस्तुओं का संचालन, औषधि की उपलब्धता आदि बिंदुओं की विस्तृत समीक्षा की। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार, अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, उप जिलाधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

No comments