Latest News

कैंसर से जूझते हुए कर्तव्य से नहीं डिगे एडीसीपी

चित्रकूट निवासी हैं आईपीएस आनंद मिश्रा

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। एडीसीपी आनन्द मिश्रा ने दिल्ली में अपनी तैनाती स्थल में ड्यूटी को लेकर गजब का जज्बा दिखाया है। कैंसर होने के बावजूद वह पिछले एक माह से लगातार दिल्लीवासियों को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाने के लिए ड्यूटी करते रहे।
जिला मुख्यालय कर्वी निवासी महेन्द्र कुमार मिश्रा के सुपुत्र आनन्द मिश्रा इन दिनों बाहरी दिल्ली में एडीसीपी पद पर तैनात हैं। दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को लेकर उच्चाधिकारियों ने उनकों अहम जिम्मेदारियां सौंप रखी हैं। देष में लाॅक डाउन के दौरान बीती 29 मार्च को गले में हल्की सूजन होने पर उन्होंने दिल्ली के राजीव गांधी कैंसर इंस्टीटयूट में अपनी जांच कराई। जिस पर वहां के डाक्टरों ने प्राथमिक जांच में आनन्द मिश्रा को कैंसर के लक्षण बताएं। इसके बावजूद उनके अन्दर दिल्लीवासियों को कोरोना से बचाने का जूनून इस
आईपीएस आनंद मिश्रा।
कदर था कि उन्होंने यह बात मथुरा में पुलिस क्षेत्राधिकारी पद पर तैनात पत्नी आलोक दुबे से भी नहीं बताई और न ही अपने छोटे भाई अभिषेक मिश्रा, बड़े भाई नलज मिश्रा से बताई। दो दिन पूर्व जब राजीव गांधी कैंसर इंस्टीटयूट के डाक्टरों ने उन्हें बाहर जाकर ड्यूटी करने से रोक दिया और आपरेषन किया गया तो इस मामले की जानकारी परिजनों को हो सकी। छोटे भाई अभिषेक ने बताया कि अस्पताल में तैनात सहपाठी चिकित्सक डा जितेन्द्र द्वारा उन्हें इस आपरेषन की जानकारी दी गयी। जिसके बाद उनके पूरे परिवार के होष उड़ गये। उन्होंने बताया कि बड़े भाई आनन्द वर्ष 2009 में दिल्ली पुलिस में एसीपी बनने के बाद से लगातार कर्तव्य के प्रति समर्पण भाव से काम करते रहे हैं। हालाकि पूरे परिवार का मन उनके पास जाने का है, लेकिन भाई का संदेषा मिला है कि अब लाॅक डाउन के बाद ही मुलाकात होगी। ऐसे में वह सभी लोग उनके जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना कर रहे हैं। साथ ही उन्हें आनन्द मिश्रा की कर्तव्य परायणता पर गर्व है। गौरतलब है कि इस युवा आईपीएस अधिकारी की कर्तव्य परायणता की सराहना दिल्ली पुलिस के पीआरओ रंदीप सिंह रंधावा ने भी की है। जिसके बाद से वह दिल्ली की मीडिया में चर्चा का विषय बने हुए हैं। 

No comments