Latest News

लॉकडाउन कानपुर:- पंखा-कूलर व्यापारियों की चिंता बढ़ी

गर्मी धीरे-धीरे परवान चढ़ने के साथ ही पंखा, कूलर, पानी की मोटर व अन्य सीजनल बिजली के उपकरणों के व्यापारियों की चिंता बढ़ती जा रही है। थोक व्यापारियों का कहना है कि अभी तक लॉक डाउन के चलते बाजार को लगभग 40 करोड़ का झटका लग चुका है। गर्मी में पंखा, कूलर व गर्मी के उपकरण आम और खास दोनों वर्ग की जरूरत है। एक महीनें और बाजार बंद रहा तो इस साल उत्पादन ही नहीं होगा। सरकार को राजस्व का भी नुकसान होगा। व्य़ापारियों ने इस संबंध में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है।
आमजा भारत कार्यालय संवाददाता'- मनीराम बगिया थोक बाजार के कारोबारी लॉक डाउन पीरियड बढ़ जाने से परेशान हैं। काराबारियों का कहना है कि पंखा, कूलर, एक्जास्ट, पानी की मोटर व अन्य गर्मी के जरूरी उत्पादों की खरीद जाड़ा खत्म होने से पहले ही एडवांस में स्टोर कर लिया जाता है।बाजार की दुकानों में लगभग 30 करोड़ के कूलर और पंखे ही होंगे।

बाजार न खुलने से पहले चरण की बिक्री प्रभावित हो चुकी है। अब बाजार नहीं खुला तो आखिरी तक पहले का ही माल बिकेगा। इससे अगले साल का नया उत्पादन कंपनियां नहीं करेंगी। यह स्थिति ठीक नहीं है। कारोबारी के साथ राजस्व का भी नुकसान होगा।

एक नजर
60 करोड़ रुपए से ज्यादा का है गर्मी सीजन का कारोबार
30 करोड़ से ज्यादा काम एडवांस में भरा है
3000 से ज्यादा लोग इस कारोबार से सीधे जुड़े हैं

व्यापारियों के संगठन ने सीएम को स्थितियां बताते हुए सीएम को पत्र लिखा है। पत्र में गर्मी की जरूरत होने की वजह से कूलर, पंखे और उससे जुड़े अन्य उपकरणों आवश्यक वस्तुओं के दायरे में लाकर बिक्री की छूट देेन की मांग की गई है।

No comments